पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा सामुदायिक शौचालय:अमेठी तहसील में सरकार की महत्वाकांक्षी योजना को लगा पलीता, आज भी खुले में शौच करते हैं ग्रामीण

अमेठी तहसीलएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व प्रधान पर लगा पैसा हड़पने का आरोप - Money Bhaskar
पूर्व प्रधान पर लगा पैसा हड़पने का आरोप

विकास खण्ड संग्रामपुर के ग्रामसभा मिश्रौली बड़गांव मे सामुदायिक शौचालय अभी तक पूर्ण नहीं हुआ है। यहाँ का शौचालय अभी आधा-अधूरा पड़ा हुआ है। देखा जाए तो संग्रामपुर क्षेत्र के लगभग सभी शौचालय संचालित हो चुके हैं। सभी ग्रामसभा लोग सरकार की स्वच्छता की पहल का लाभ ले रहे हैं, लेकिन विकास खण्ड ग्रामसभा मिश्रौली बड़गांव में सामुदायिक शौचालय आधा अधूरा बन कर पड़ा है और सरकार की इतनी बड़ी योजना से ग्रामीण वंचित हो रहे हैं।

ग्रामसभा के प्रधान छोटेलाल यादव ने बताया कि पूर्व प्रधान रामकृष्ण यादव द्वारा निर्माण कार्य कराया जा रहा था, जिसमें उन्होंने 3 लाख 10 हजार रूपया निकाल लिया और केवल शौचालय का चारों तरफ की बाउंड्री करा कर छोड़ दिया। इसी बीच उनकी प्रधानी का कार्यकाल खत्म हो गया और उन्होंने शौचालय का पूरा निर्माण नहीं कराया। उन्होंने कहा, 'जबसे मैं प्रधान बना हूँ। तब हमने देखा कि शौचालय निर्माण के लिए खाते में डेढ़ लाख से ऊपर बचा है, हमने शौचालय निर्माण में 90 हजार रूपये खर्च करके काम शुरु किया है, जिसमें हमने छत डलवाई और बोरिंग कराया है। इतना होने पर भी अभी तक सामुदायिक शौचालय का टैंक और दीवार के प्लास्टर और टॉयलेट सीट का काम होना है। खाते में लगभग 60 हजार रुपये हैं, किसी तरह शौचालय का निर्माण कार्य पूरा कराया जाएगा।'

अर्धनिर्मित हालात में पड़ा शौचालय।
अर्धनिर्मित हालात में पड़ा शौचालय।

खुले में शौच के लिए ग्रामीण मजबूर
ग्रामीण धीरज ने बताया कि हमारे गांव में कई सालों से यह शौचालय आधा अधूरा पड़ा हुआ है। इस पर लापरवाही के चलते पूरा निर्माण नहीं हो पाया है। गांव के निवासी रामरतन ने बताया कि गांव में शौचालय केवल नाम मात्र के लिए घेरवा दिया गया है। पूरी तरह से शौचालय का निर्माण नहीं हुआ है, जिसकी वजह से हम लोग बाहर शौच करने के लिए मजबूर होते हैं। यहां की सबसे बुरी दशा है। पूर्व प्रधान द्वारा शौचालय का पूरी तरह से निर्माण नहीं कराया गया।

खबरें और भी हैं...