पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57491.51-2.62 %
  • NIFTY17149.1-2.66 %
  • GOLD(MCX 10 GM)486500.4 %
  • SILVER(MCX 1 KG)64467-0.29 %

7 को अंबेडकरनगर पहुंचेंगे पूर्व सीएम अखिलेश यादव:बसपा से निकाले गए दो नेता लेंगे सपा की सदस्यता, पूर्वांचल के वोटरों में नेताओं की मजबूत पकड़

अंबेडकरनगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पूर्व सीएम अखिलेश यादव। - Money Bhaskar
पूर्व सीएम अखिलेश यादव।

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव का 7 नवम्बर को अम्बेडकरनगर पहुंचेंगे। जिला मुख्यालय में भानमती स्मारक पीजी कालेज में जनादेश रैली को अखिलेश यादव संबोधित करेंगे। इस दौरान बीएसपी से निकाले गए दो पूर्व कैबिनेट मंत्री राम अचल राजभर व लालजी वर्मा सपा की सदस्यता लेंगे। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए युद्ध स्तर पर तैयारियां चल रही हैं।

गौरतलब है कि पूर्वांचल के कद्दावर नेता व मौजूदा विधायक राम अचल राजभर और लालजी वर्मा बीएसपी से निष्काषित हैं। दोनों नेता पूर्व सीएम अखिलेश यादव की मौजूदगी में सपा का दामन थामेंगे। संभावना है कि इससे समाजवादी की ताकत भी बढ़ेगी। क्योंकि पूर्वांचल के वोटरों में राम अचल राजभर और लालजी वर्मा की मजबूत पकड़ है।

तैयारियों में जुटे कार्यकर्ता।
तैयारियों में जुटे कार्यकर्ता।

पार्टी मुखिया ने दिखाया बाहर का रास्ता

बीएसपी से पांच बार विधानसभा पंहुचने वाले राम अचल राजभर ने एक हफ्ते पहले ही निवर्तमान ब्लॉक प्रमुख अकबरपुर सुनीता वर्मा को पार्टी में शामिल कराकर दोबारा ब्लॉक प्रमुख बनाने की हुंकार भरी थी। इसी दौरान उनको पार्टी मुखिया ने बाहर का रास्ता दिखा दिया। दोनों नेताओं को पंचायत चुनाव के दौरान पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहने के कारण पार्टी से निकाला गया है।

जिला मुख्यालय में भानमती स्मारक पीजी कालेज में जनादेश रैली को अखिलेश यादव संबोधित करेंगे।
जिला मुख्यालय में भानमती स्मारक पीजी कालेज में जनादेश रैली को अखिलेश यादव संबोधित करेंगे।

बसपा में देखने को मिलेगा उलटफेर

लालजी वर्मा वर्तमान समय में कटेहरी विधानसभा से और राम अचल राजभर अकबरपुर से विधायक हैं। लालजी वर्मा बसपा विधान मंडल दल के नेता थे। बसपा द्वारा इन दोनों दिग्गज नेताओं को बाहर का रास्ता दिखा दिए जाने के कारण जिले में बसपा में आगे बड़ा उलटफेर देखने को मिलेगा। जिले में बसपा की राजनीति दोनों पूर्व मंत्रियों के इर्द गिर्द ही अब तक घूमती रही है।