पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंबेडकरनगर के प्राइमरी स्कूलों में नहीं है सुरक्षा के इंतजाम:बाउंड्रीवाल औऱ गेट नहीं होने से छात्रों औऱ शिक्षकों को सताती रहती है चिंता

अंबेडकरनगर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अंबेडकरनगर के परिषदीय स्कूलों में अभी भी कई सुविधाओं की दरकार है। खासकर विद्यालयों में बाउंड्रीवाल और गेट नहीं होने से बच्चों और शिक्षकों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। सबसे ज्यादा परेशानी बच्चों और विद्यालय की सुरक्षा को लेकर है। कई बार पढ़ाई के दौरान पशु परिसर में घुस जाते हैं, जिससे डर लगा रहता है।

560 स्कूलों में बाउंड्रीवाल की दरकार
560 प्राइमरी स्कूल ऐसे हैं, जिनमें न बाउंड्रीवाल है और न गेट लगे हैं। जिले में कुल 1582 प्राइमरी स्कूल हैं, जिनमें करीब 2 लाख 10 हजार बच्चे पढ़ते हैं। इनमे करीब 1020 विद्यालय में ही गेट और बाउंडरी हुई है। इन विद्यालयों के भवन का तो निर्माण हुआ है, लेकिन अधिकांश विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों की सुरक्षा के लिए विद्यालय के चारो तरफ बनने वाली चहारदीवारी अब तक नहीं बनवाई जा सकी है।

पढ़ाई के समय टहलते हैं आवारा पशु
विद्यायल में बाउंड्रीवाल नहीं होने से सुरक्षा को लेकर हमेशा शिक्षक और बच्चों को चिंता रहती है। अकबरपुर शिक्षा क्षेत्र के जोगापुर और रतनपुर में बने परिषदीय विद्यालयों में बाउंड्री नहीं बनी है, जिससे पढ़ाई के समय भी यहां मवेसी टहलते रहते हैं। शाम होते ही अराजक तत्व घूमने लगते हैं, जिससे कई बार स्कूलों में चोरी जाती है। जिला समन्वय विकास चौधरी ने बताया कि जिन स्कूलों में बाउंड्री नहीं है, उन्हें चिन्हित किया गया है। बजट आते ही बाउंड्री बनाया जाएगा।