पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ambedkarnagar
  • Ambedkarnagar Conversion In Ambedkarnagar, Married In The Temple By Becoming A Hindu,First Marriage, Then Nikah, After Halala, Evicted From The House, Case Filed On The Order Of The Court

अंबेडकरनगर में मुस्लिम युवक ने हिंदू बनकर की शादी:आजमगढ़ ले जाकर जबरन निकाह किया; नमाज नहीं पढ़ने पर दिया तीन तलाक, फिर हलाला को मजबूर किया

अंबेडकरनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अंबेडकरनगर में लव जिहाद का मामला सामने आया है। यहां मुस्लिम युवक ने हिंदू बनकर एक लड़की से मंदिर में शादी की। फिर इसी पहचान के साथ वह लड़की को आजमगढ़ ले गया। आरोप है कि हफ्ते भर बाद ही आरोपी ने लड़की पर निकाह करने का दबाव बनाया। चूंकि शादी हो चुकी थी। इसलिए लड़की बहुत विरोध नहीं कर सकी। निकाह भी हो गया। लेकिन लड़की रोज नमाज नहीं पढ़ती थी। यह बात आरोपी युवक को नागवार गुजरी कि उसने तीन तलाक दे दिया।

आरोप है कि आरोपी ने लड़की पर अपने भाइयों के साथ हलाला कराने को भी मजबूर किया गया। हालांकि लड़की भाग निकली। इसके बाद लड़की थाने पहुंची। पुलिस से मदद नहीं मिली। तो कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। अब कोर्ट ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कराने के आदेश जारी किया। पुलिस ने मामले की जांच शुरू की है।

यह लड़की की शादी का कार्ड है। मुस्लिम लड़के का नाम श्यामू लिखा है। इसी पहचान के साथ उसने शादी की थी। कोर्ट में इसे पेश किया गया है।
यह लड़की की शादी का कार्ड है। मुस्लिम लड़के का नाम श्यामू लिखा है। इसी पहचान के साथ उसने शादी की थी। कोर्ट में इसे पेश किया गया है।

मंदिर में शादी के बाद मौलवी बुलाकर किया निकाह
लड़की के मुताबिक उसका मालीपुर के सैरपुर उमरन गांव में घर है। जबकि सम्मनपुर के हरदिलपुर में रिश्तेदारी है। लड़की के ममेरे भाई के घर आजमगढ़ के पवई का रहने वाला एक युवक आता था। वो अपना नाम श्यामू बताता था। उसने लड़की से नजदीकियां बढ़ा लीं। प्यार के बाद शादी के लिए राजी कर लिया। 22 मई 2020 को शादी तय हुई। लेकिन, लॉकडाउन लग गया। फिर 10 जुलाई 2020 को जलालपुर कस्बे के मठिया मंदिर में शादी की।

शादी के बाद लड़की को ससुराल पहुंचे एक सप्ताह ही हुए थे कि शावाम और उसके परिवार वालों ने मौलवी बुलाकर लड़की से जबरन निकाह पढ़वा दिया। निकाह के बाद उस पर नियमित नमाज और कलमा पढ़ने का दबाव बनाया जाने लगा। घरवालों के साथ आस-पास की मुस्लिम महिलाएं उसे नमाज पढ़ने का अभ्यास भी कराने लगी।

वह जब भी आपत्ति जताती, उसके साथ जानवरों जैसा व्यवहार किया जाता। आए दिन मारपीट के बीच एक दिन शावाम ने उसे तीन तलाक दे दिया। लेकिन, बाहर निकलने की इजाजत नहीं दी गई। युवती का मोबाइल तक छीन लिया गया। इस बीच शावाम ने दोबारा निकाह करने की बात कर उसे अपने भाई मेंहदी हसन और शरीफ से हलाला करने पर मजबूर किया। किसी तरह भागकर युवती अपने पिता के पास पहुंची और पूरी आपबीती बताई। ये सब सुनकर परिवार भी सकते में आ गए।

विहिप ने भी सीएम ऑफिस तक मामला पहुंचाया
लड़की के साथ परिवार ने मालीपुर थाने में शिकायत दर्ज कराई। आरोप है कि पुलिस ने कार्रवाई के बजाय डांटकर भगा दिया। एसपी को भी मामले से अवगत कराया। लेकिन, कोई एक्शन नहीं हुआ। दूसरी तरफ विश्व हिंदू परिषद ने पूरे प्रकरण को मुख्यमंत्री कार्यालय तक पहुंचाया। कोर्ट ने भी एफआईआर दर्ज कराने के लिए आदेश दिए। एसपी आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि FIR दर्ज करने के बाद मामले की जांच सीओ को सौंपी गई है। साक्ष्य इकट्ठा किए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...