पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जहांगीरगंज में मनाया गया ड्राई डे:थानाध्यक्ष ने कहा- हमें नशा मुक्त बनने की जरूरत, समाज में इसका विनाशकारी प्रभाव पड़ता है

आलापुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अंबेडकरनगर के जहांगीरगंज थाना क्षेत्र में रविवार को ड्राई डे मनाया गया। थानाध्यक्ष शंभूनाथ ने पुलिस कर्मियों के साथ क्षेत्र भ्रमण किया। उन्होंने कस्बे में नशा उन्मूलन को लेकर जागरूकता अभियान चलाया। उन्होंने कस्बे के नरियांव बावली चौक पर लोगों से वार्ता की। बताया कि नशे के सेवन से हमारे शरीर में व समाज में दुष्प्रभाव पड़ता है। उन्होंने लोगों को नशा मुक्त समाज बनाने का संकल्प दिलाया।

नशीली दवाओं के दुरुपयोग को समाप्त करने की पहल

कहा कि हम किसी भी रूप में नशीली दवाओं का उपयोग नहीं करेंगे। नशा मुक्त समाज बनाने के दृढ़ संकल्प को मजबूत करने के लिए एक साथ आए हैं। भारत इस बुराई से लड़ने में कोई कसर नहीं छोड़गा। यह सामाजिक लक्ष्यों को प्राप्त करने व नशीली दवाओं के दुरुपयोग को समाप्त करने की पहल है। साथ ही समुदाय-केंद्रित दृष्टिकोण और परिणामों को मजबूत करने की हमारी प्रतिबद्धता की भी पुष्टि करता है।

थानाध्यक्ष ने अपील किया कि ड्राई डे के अवसर पर आम आदमी को नशा मुक्त भारत अभियान का हिस्सा बनना चाहिए। क्योंकि लोगों की भागीदारी से ही समाज से बुराई को मिटाया जा सकता है। कहा कि मादक पदार्थों के सेवन से बड़ी संख्या में लोगों की जिंदगी बर्बाद हो गई है। इस बुराई के दुष्परिणामों के बारे में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता है।

कहा- हमें नशा मुक्त बनने की जरूरत है

उन्होंने कहा कि हमें नशा मुक्त बनने की जरूरत है और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए बहुत गंभीर है। नशे की लत का प्रभाव सिर्फ उस व्यक्ति पर नहीं पड़ता जो इसकी चपेट में है, बल्कि इससे परिवार और समाज के बड़े वर्ग पर विनाशकारी प्रभाव पड़ता है और यह गंभीर चिंता का विषय बन गया है। इस अवसर पर हमें नशा मुक्त समाज बनाने का संकल्प लेना चाहिए।

इस अवसर पर बाजारवासी एवं राहगीर मौजूद रहे

थानाध्यक्ष शंभूनाथ ने बताया कि ड्राई डे का मुख्य ध्येय नशे की समस्या के निवारक के रूप में काम करना है। लोगों को नशे की लत के बारे में जागरूक करना है। इस अभियान से जुड़े विभिन्न लोगों और संस्थाओं का क्षमता निर्माण, शैक्षणिक संस्थानों के साथ सकारात्मक साझेदारी और उपचार, पुनर्वास और परामर्श सुविधाओं में वृद्धि करना है। इस अवसर पर तमाम बाजार वासी एवं राहगीर मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...