पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Aligarh
  • Unknown Miscreants Killed The Cattle By Beating Them With Sticks, On The Information Of The Uproar Of The Villagers, The CO And Other Officials Reached The Spot.

गुरुकुल में गोवंश की हत्या, ग्रामीणों ने किया हंगामा:अज्ञात बदमाशों ने गुरुकुल में घुसकर गाय को लाठी डंडे से पीटकर की हत्या, हंगामे की सूचना पर सीओ समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे

अलीगढ़9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गाय की हत्या की सूचना के बाद मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारी - Money Bhaskar
गाय की हत्या की सूचना के बाद मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारी

अलीगढ़ के गोण्डा थाना क्षेत्र के तारापुर गांव में गोवंश की अज्ञात लोगों ने पीट पीट कर हत्या कर दी। इस घटना की जानकारी जब लोगों को मिली तो पूरे गांव में ग्रामीण इकट्‌ठे हो गए और उन्होंने घटना के विरोध में हंगामा करना शुरू कर दिया। जिसके बाद मौके पर सीओ समेत थाने के अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को शांत कराया। जिसके बाद गाय का पोस्टमार्टम कराया गया।

गुरुकुल के अंदर हुई गाय की हत्या

पुलिस ने बताया कि नहर पर ज्ञान गंगा गुरुकुल महाविद्यालय संचालित है, जो स्वामी प्रशांता नंद गिरी के सानिध्य में चलता है। संचालित है सोमवार की रात अज्ञात चोर आश्रम में घुसे और उन्होंने गुरुकुल के अंदर बंधी गाय को बुरी तरह से मारा पीटा जिससे उसकी मौत हो गई। सुबह जब स्वामीजी उसे चारा डालने के लिए गए तो उन्होंने गाय को मृत देखा। यह खबर पूरे गांव में पहुंच गई और इसका विरोध शुरू हो गया।

पोस्टमार्टम के बाद गाय का हुआ अंतिम संस्कार

गोंडा थाना प्रभारी हरिभान सिंह राठौर ने बताया कि अज्ञात चोरों ने आश्रम में घुसकर इस घटना को अंजाम दिया है। जिसके बाद पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है और गाय की हत्या करने वालों की तलाश शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि गाय का पोस्टमार्टम कराया गया, जिसके बाद जेसीबी के माध्यम से जमीन में दफन करके गाय का अंतिम संस्कार करा दिया गया है।

आश्रम खाली कराने की है साजिश

ग्रामीणों ने बताया कि आश्रम में स्वामीजी के साथ गुरुकुल के बच्चे रहते हैं। कुछ अराजक तत्व आए दिन उन्हें सताते रहते हैं, जिससे कि वह आश्रम खाली करके गांव से चले जाए। यह काम भी उनकी शरारती तत्वों का है, जिससे कि आश्रम में रहने वाले लोगों में भय का माहौल बन जाए। ग्रामीणों कहना था कि वह ऐसा बिल्कुल भी नहीं होने देंगे। वह सभी गुरुकुल और आश्रम के साथ हैं।

खबरें और भी हैं...