पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59037.18-0.72 %
  • NIFTY17617.15-0.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48458-0.16 %
  • SILVER(MCX 1 KG)646560.47 %

अलीगढ़...पड़ोसियों ने की थी बच्चे की हत्या:19 अक्टूबर को अपहरण कर मागी थी 10 लाख की फिरौती

अलीगढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी की निशानदेही पर पालीमुकीमपुर पुलिस ने बुलंदशहर जाकर शव बरामद किया। - Money Bhaskar
आरोपी की निशानदेही पर पालीमुकीमपुर पुलिस ने बुलंदशहर जाकर शव बरामद किया।

अलीगढ़ के गांव कल्यानपुर में घर के बाहर से गायब हुए मासूम की हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने रविवार को इस घटना का खुलासा किया। आरोपियों की निशानदेही पर बुलंदशहर से शव भी बरामद कर लिया गया। एक महीने में शव को जानवरों ने नोच डाला और वह आधा कंकाल में बदल चुका है।

लेन-देन के विवाद में पड़ोसियों ने ही उसे बुलंदशहर ले जाकर उसकी हत्या कर दी थी। जिसके तीन दिन बाद उन्होंने पुलिस को गुमराह करने के लिए परिजनों से 10 लाख रुपए की फिरौती मांगी थी।

19 अक्टूबर को गायब हुआ था बच्चा

गांव कल्यानपुर निवासी अमर सिंह ने 19 अक्टूबर को थाना पालीमुकीमपुर में अपने 11 साल के बेटे अजय के लापता होने की सूचना दी थी। पुलिस ने टीम बनाकर मामले की जांच शुरू कर दी थी। बच्चे के गायब होने के 3 दिन बाद परिवार वालों को एक पत्र मिला था, जिसमें उनसे 10 लाख रुपए की फिरौती मांगी गर्इ थी। रुपए लेकर उन्हें गुजरात बुलाया गया था।

पीड़ितों ने इसकी जानकारी पुलिस को दी थी। पुलिस ने जब गुजरात के दिए गए पते पर जानकारी की, तो वह गलत निकला था। इसके बाद से ही पुलिस मामले की पड़ताल कर रही थी। पुलिस ने टीम बनाकर गांव के लगभग 200 लोगों से पूछताछ की थी। जिसमें पीड़ित का पड़ोसियों से विवाद होने की बात सामने आई थी।

पुलिस के डर से रची खुद के अपहरण की कहानी

गांव वालों से पूछताछ में पुलिस को आरोपियों पर पहले ही शक हो चुका था। पुलिस और परिजनों को यह आशंका थी कि बच्चे की हत्या कर दी गई है। आरोपियों ने 2 दिन पहले खुद के अपहरण की झूठी कहानी रच दी। साथ ही अपने मामा को फोन करके फिरौती मांगी।

जिसके बाद कल्यानपुर निवासी श्योराज सिंह ने पुलिस को बताया कि उनके 17 साल के बेटे का अपहरण हो गया है। इसकी सूचना उनके साले के पास आई है। 3.5 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई है। जिसके बाद पुलिस छानबीन में जुट गई थी। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर ही लड़के को बुलंदशहर से बरामद कर लिया। उसने बताया कि उसके ऊपर गांव के एक व्यक्ति का 50 हजार रुपए का कर्ज था। जिसके चलते उसने अपने अपहरण की कहानी रच दी थी। लेकिन पुलिस को उन पर संदेह हो गया। वह कड़ाई से उनके पूछताछ करने में जुट गई।

पीड़ित के परिवार जन ही बताए जा रहे पड़ोसी

पुलिस के अनुसार, आरोपी परिवार पीड़ित पक्ष के परिवार वाले ही हैं। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि उनका अपने पड़ोसियों से लेन-देन का विवाद था। उसने बताया कि मृतक की मां उसे व उसकी मां को ताने मारती थी।

सबक सिखाने के लिए 19 अक्टूबर को गांव के दुर्गेश बघेल पुत्र ज्वाली के साथ मिलकर मृतक को बुलंदशहर के थाना रामघाट क्षेत्र में नहर के किनारे ले गया। वहां सुनसान जगह देखकर गला दबाकर उसकी हत्या करके शव को झाड़ियों में फेंक दिया। पकड़े न जाए इसलिए 23 अक्टूबर को अमर सिंह के घर के बाहर गली में एक कागज पर गुजरात का पता लिखकर फिरौती मांगने का पत्र फेंक दिया। इसके बाद खुद के अपहरण की साजिश रच दी।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि आरोपियों की निशानदेही पर शव को बरामद कर लिया गया है। दो अरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।

खबरें और भी हैं...