पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अलीगढ़ में भाजपा विधायक को दो साल की हुई सजा:एमपी एमएलए कोर्ट ने 23 साल पुराने मामले में सुनवाई करते हुए दिया निर्णय

अलीगढ़7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संजीव राजा, शहर विधायक - Money Bhaskar
संजीव राजा, शहर विधायक

अलीगढ़ में एमपी एलएमए कोर्ट ने 23 साल पुराने एक मामले में सुनवाई करते हुए भाजपा के वर्तमान विधायक को 2 साल कैद की सजा सुनाई है। अलीगढ़ के शहर विधानसभा विधायक संजीव राजा पर सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने, धमकी देने व सिपाही के साथ मारपीट करने के मामले में मुकदमा दर्ज हुआ था। जिसके बाद से इसकी सुनवाई चल रही थी। न्यायधीश ने सजा सुनाने के साथ ही अरोपी विधायक पर 14 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है।

1999 में दर्ज हुआ था मुकदमा

एडीजीसी रविकांत शर्मा ने बताया कि वर्ष 1999 में ट्रक को नॉ पार्किग में जबरन घुसाने और सिपाही के साथ मारपीट करने के मामले में विधायक पर मुकदमा दर्ज हुआ था। इसमें यह भी आरोप थे कि सिपाही के साथ मारपीट की गई है और सिपाही को अंदरुनी चोटें आई थी। जांच में दोषी पाये जाने पर अपर सत्र न्यायधीश के यहां से दो साल की सजा सुनाने के साथ 14 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। लेकिन विधायक को तत्काल जमानत भी मिल गई है। क्योंकि सजा की अवधि तीन साल से कम थी।

यह था सारा मामला

एडीजीसी ने बताया कि 17 नवंबर 1999 को बन्नादेवी में तैनात कांस्टेबल श्यामसुंदर ने मुकदमा दर्ज कराया था। इसमें आरोप लगाया था कि वह गंदा नाला चौराहे पर ड्यूटी पर थे। ड्यूटी सुबह नौ बजे से शुरू हुई थी। करीब 11 बजे गिट्टी से भरा एक ट्रक खैर बाईपास की तरफ से शहर के अंदर आ रहा था। नो पार्किंग जोन में जाते ट्रक को रोका गया और बाईपास से जाने को कहा। इस पर चालक ने ऑन ड्यूटी पुलिस कर्मी से अभद्रता की। इसके साथ ही वह ट्रक को जबरन शहर के अंदर ले गया। दोबारा ट्रक रोकने का प्रयास किया तो चालक कहने लगा कि यह गाड़ी संजीव राजा की है। ट्रक रोकने की कोशिश की तो मैं नौकरी ले लूंगा।

जिसके बाद संजीव राजा अपने 7-8 लोगों के साथ वहां पहुंच गए थे और सिपाही श्यामसुंदर के साथ मारपीट की थी। इसके साथ ही उसे जान से मारने की धमकी भी दी थी। सिपाही की तहरीर विधायक व उसके समर्थकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। गवाहों व साक्ष्यों के आधार पर न्यायालय ने विधाकय को दोषी करार देते हुए सजा सुनाई है।