पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX59037.18-0.72 %
  • NIFTY17617.15-0.79 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48458-0.16 %
  • SILVER(MCX 1 KG)646560.47 %

आगरा में डीएम को वसीयत का मामला:प्रशासन बुजुर्ग की मदद में जुटा, जिलाधिकारी ने दिए यह सुझाव , परिवार ने साधी चुप्पी

आगरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा के गणेश शंकर पांडे ने अपनी तीन करोड़ की संपत्ति की वसीयत जिलाधिकारी के नाम की है - Money Bhaskar
आगरा के गणेश शंकर पांडे ने अपनी तीन करोड़ की संपत्ति की वसीयत जिलाधिकारी के नाम की है

ताजनगरी आगरा में अपने बेटों द्वारा सम्मान न मिलने से आहत बुजुर्ग द्वारा जिलाधिकारी के नाम तीन करोड़ की संपत्ति की वसीयत करने के मामले में प्रशासन बुजुर्ग को समझाने के प्रयास में जुट गया है। जिलाधिकारी प्रभु नारायण सिंह ने बुजुर्ग से बात करके मामला परिवार के साथ बैठकर सुलझाने या फिर कानूनी कार्रवाई करवाने की बात कही है। मामला चर्चा में आने के बाद बुजुर्ग और उसके परिजनों ने चुप्पी साध ली है।

जानकारी के मुताबिक थाना छत्ता अंतर्गत निरालाबाद पीपल मंडी निवासी गणेश शंकर पांडे ने अपने भाई नरेश शंकर पांडे,रघुनाथ और अजय शंकर के साथ मिलकर 1983 में 1 हजार गज जमीन खरीद कर आलीशान मकान बनवाया था। वक्त के साथ चारों भाइयों ने अपना बंटवारा कर लिया। वर्तमान में गणेश शंकर चौथाई मकान के मालिक हैं। मकान की कीमत लगभग 13 करोड़ है। गणेश शंकर ने बताया की उनके बेटे उनका ध्यान नहीं रखते हैं। एक बेटा दिमाग से कमजोर है और कोई काम धंधा नहीं करता है। समझाने पर बेटों ने उनसे नाता तोड़ दिया और उनका ख्याल नहीं रखते हैं। इस बात से खफा होकर उन्होंने अपनी सारी संपत्ति जिलाधिकारी के नाम कर दी।

जिलाधिकारी ने किया समझाने का प्रयास

जिलाधिकारी प्रभु नारायण सिंह के अनुसार स्थानीय पुलिस को बुजुर्ग की मदद करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने खुद बुजुर्ग से बात करके उन्हें सम्भव मदद का आश्वासन दिया है। परिवार को एक साथ बैठकर विवाद सुलझाने को कहा गया है। बुजुर्ग अगर शिकायत करेंगे तो भरण पोषण के लिए पुत्रों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

तीन साल बाद सौंपी थी वसीयत

बुजुर्ग गणेश शंकर ने अगस्त 2018 में जिलाधिकारी आगरा के नाम मकान की वसीयत कर दी थी। तीन दिन पूर्व जनता दर्शन में कलेक्ट्रेट जाकर उन्होंने सिटी मजिस्ट्रेट प्रतिपाल चौहान को रजिस्टर्ड वसीयत सौंपी थी। सिटी मजिस्ट्रेट ने वसीयत के कागज प्राप्त कर जिलाधिकारी को सौंपे थे।

नामी परिवार का है मामला

बता दें की बुजुर्ग गणेश शंकर पांडे शहर के नामी परिवार के हैं। जिनके परिवार की आगरा के सबसे बड़े थोक बाजार रावतपाड़ा में तम्बाकू की दुकान है। पुत्र जयराम अपना बिजनेस करता है और परिवार धन धान्य से सक्षम है। वसीयत सामने आने के बाद बुजुर्ग के घर में विवाद शुरू हो गया है और इसी कारण परिवार ने अब मीडिया से दूरी बना ली है।

खबरें और भी हैं...