पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Agra
  • Said Fountain Made By Changing The Form Of Shivling, The Decision Of The Court Has To Be Accepted, Wherever Aurangzeb's Name Appears, We Will Uproot It.

जहां दिखेगा औरंगजेब का नाम, उसे उखाड़ देंगे:ज्ञानवापी पर आगरा के मेयर बोले- शिवलिंग का रूप बदलकर बनाया फव्वारा, न्यायालय का निर्णय मानना ही होगा

आगरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आगरा के मेयर नवीन जैन ने ज्ञानवापी में शिवलिंग को फव्वारे में बदले जाने की बात कही है - Money Bhaskar
आगरा के मेयर नवीन जैन ने ज्ञानवापी में शिवलिंग को फव्वारे में बदले जाने की बात कही है

ऑल इंडिया मेयर काउंसिल के अध्यक्ष और आगरा के मेयर नवीन जैन ने भी बनारस ज्ञानवापी प्रकरण में एंट्री ले ली है। उनका कहना है की वहां शिवलिंग को फव्वारे का रूप दिया गया है और न्यायलय का जो भी निर्णय होगा ,उसे सबको मानना ही पड़ेगा। उन्होंने मुगल शासक औरंगजेब को मुगल काल का सबसे बड़ा आतंकी बताते हुए पूरे देश के मेयरों को पत्र लिख कर औरंगजेब के नाम की पट्टिकाओं को हटाने की अपील करने की बात कही है। उनका कहना है जो देश हित की बात करेगा और देश के लिए काम करेगा वही इस देश में रह पायेगा।

आगरा के मेयर नवीन जैन का कहना है की उन्होंने आगरा में मुगल नामों को बदलने का लगातार काम किया है। औरंगजेब बहुत क्रूर व्यक्ति था ,उसने जबरन हिन्दुओ से धर्म परिवर्तन कराया। न मानने पर उसने लोगों को खौलते पानी में डालकर मार दिया।

पूरे हिन्दू समाज को अपमानित किया। अपने पिता को कैद किया ,अपने भाई की ह्त्या कर दी और जो हमारे देश का नहीं है ,हम उसका नाम क्यों लें ? यह दुःख की बात है की कुछ लोग औरंगजेब को अपना आदर्श मानते हैं तो ऐसे लोगों के लिए हमारे देश में जगह नहीं हैं।

ऐसे लोगों को अपना सामन उठा कर दूसरे देशों में चले जाना चाहिए। मोदी जी ने कांग्रेस द्वारा दिल्ली में सड़क अक नाम औरंगजेब के नाम से रखने के बाद सत्ता आने पर उसका नाम बदलकर अब्दुल कलाम रखा। हमें अब्दुल कलम जैसे लोग ही चाहिये औरंगजेब जैसे नहीं।

कांग्रेस पर पलटवार

कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष शाहनवाज आलम द्वारा न्यायपालिका के एक वर्ग के भाजपा से मिले होने के बयान पर उन्होंने कहा की उन्हें ऐसा बयान सोच - समझ कर देना चाहिए। पूरा देश न्यायपालिका का सम्मान करता है और उस पर टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। यह हमारे संविधान और उसे लिखने वाले बाबा साहब डॉ भीम राव आम्बेडकर का अपमान है।