पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसान 31 को जलाएंगे पीएम का पुतला:किसान बोले- कृषि कानून वापस लेने के बाद हमने आंदोलन खत्म किया, लेकिन अब तक नहीं बना MSP पर कानून

श्रीगंगानगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर में पत्रकारों से बातचीत करते किसान। - Money Bhaskar
श्रीगंगानगर में पत्रकारों से बातचीत करते किसान।

संयुक्त किसान मोर्चा ने कृषि कानून वापस लेने के बाद केंद्र सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया है। किसानों का कहना है कि सरकार ने किसानों का आंदोलन तो खत्म कर दिया, लेकिन अब तक किसानों की मांगों पर कोई कार्रवाई नहीं की है। किसानों ने एमएसपी पर कानून बनाने सहित कई मांगें की थी लेकिन इनमें से एक पर भी केंद्र सरकार ने सकारात्मक रवैया नहीं अपनाया है। ऐसे में 31 जनवरी को किसान एक बार फिर विरोध जताएंगे। इस दिन एसडीएम मुख्यालयों और डिस्ट्रिक्ट हैड क्वार्टर पर प्रधानमंत्री के पुतले जलाए जाएंगे।

सरकार ने की वादाखिलाफी

सोमवार को शहर की पंचायती धर्मशाला में पत्रकारों से बातचीत में पूर्व विधायक हेतराम बेनीवाल, कृषि उपज मंडी फल सब्जी के पूर्व अध्यक्ष मनिंद्र मान, जिला सब्जी उत्पादक संघ के अध्यक्ष अमरसिंह, किसान नेता कालू थोरी, किसान संदीप सिंह आदि ने कहा कि जब किसानों ने आंदोलन समाप्त किया था तो उन्हें विश्वास था कि सरकार की मंशा के अनुरूप कृषि कानून वापस ले रही है तो किसानों पर दर्ज मुकदमे भी वापस ले लिए जाएंगे, लेकिन ऐसा हुआ नहीं है। एमएसपी पर कोई कानून भी नहीं बनाया गया और किसानों की अन्य किसी मांग पर भी गौर नहीं किया गया। उनका कहना था कि अगर सरकार अब भी तीस जनवरी तक उनकी मांगों पर कार्रवाई नहीं करेगी तो 31 जनवरी को एसडीएम और जिला हैडक्वार्टर पर पीएम के पुतले फूंककर विश्वासघात दिवस मनाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...