पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sriganganagar
  • The Department Does Not Have The Address Of The Accused, Only The Case Was Registered In The Name, The Approval Of The Camp Was Taken From Kesrisinghpur Municipality.

फर्जी जिला समन्वयक बनकर करवा लिए कैंप:डिपार्टमेंट के पास आरोपी का पता ही नहीं, केवल नाम से दर्ज करवाया मुकदमा, केसरीसिंहपुर नगर पालिका से ली कैंप की स्वीकृति

श्रीगंगानगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोगो। - Money Bhaskar
लोगो।

एक व्यक्ति ने जिला साक्षरता एवं सतत शिक्षा अधिकारी ऑफिस का फर्जी लैटर पेशकर खुद को कार्यालय का जिला समन्वयक बताया और केसरीसिंहपुर इलाके में प्रेरकों के दो कैंप करवा लिए। इस लैटर के आधार पर केसरीसिंहपुर नगर पालिका ने उसे कैंप लगाने की स्वीकृति का पत्र भी जारी कर दिया। डिपार्टमेंट ने अब उसके खिलाफ मामला तो दर्ज करवा दिया है लेकिन अब भी विभाग के पास केवल उसका नाम है। पते की उन्हें जानकारी नहीं है।

साक्षरता अधिकारी पहुंचे तो खुला मामला

यह मामला तब सामने आया जब पिछले साल नवम्बर में दो कैंप लगाने के बाद एक कैंप के दौरान जिला साक्षरता एवं सतत शिक्षा अधिकारी जांच के लिए मौके पर पहुंचे। वहां संबंधित के डॉक्यूमेंट्स में गड़बड़ी नजर आने पर उन्होंने इस मामले की जानकारी ली और पूरी जानकारी जिला कलेक्टर के समक्ष पेश कर दी। विभाग ने तब भी संबंधित के खिलाफ मामला दर्ज नहीं करवाया। बुधवार को जिला कलेक्ट्रेट से संबंधित के खिलाफ मामला दर्ज करवाने के आदेश पर यह कार्रवाई की गई।

बिना आदेश करवा रहा था कैंप
जिला साक्षरता एवं सतत शिक्षा अधिकारी विजय शर्मा की ओर से दर्ज मामले में कहा गया है कि आरोपी तरसेम सिंह ने पिछले साल 29 अक्टूबर से तीन नवम्बर तथा छह नवम्बर से नौ नवम्बर तक दो कैंप आयोजित करवाए। जानकारी मिलने पर जिला साक्षरता एवं सतत शिक्षा अधिकारी माैके पर पहुंचे। आरोपी तरसेमसिंह ने खुद को उच्च अधिकारियों से अनुमति होने की बात कही। उसकी ओर से पेश किए गए पत्र के फर्जी लगने पर जांच की तो पता लगा कि डिपार्टमेंट ने तो ऐसी कोई अनुमति दी ही नहीं है। इस पर मामला जिला कलेक्टर की जानकारी में लाया गया। वहां से अनुमति मिलने पर संबंधित के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया। हालांकि अब तक इस मामले में फाइनेंशियल अनियमितता की जानकारी नहीं मिली है।