पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

किसानों की समस्याएं दूर होनी चाहिए:जल संसाधन मंत्री महेंद्रजीतसिंह मालवीय बोले, नहीं पिटनी चाहिए नहरी इलाके के किसानों की बारियां

श्रीगंगानगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर में स्काडा कंट्रोल रूम के उद्घाटन अवसर पर मौजूद नहरी मंत्री महेंद्रजीतसिंह मालवीय। - Money Bhaskar
श्रीगंगानगर में स्काडा कंट्रोल रूम के उद्घाटन अवसर पर मौजूद नहरी मंत्री महेंद्रजीतसिंह मालवीय।

जल संसाधन एवं इंदिरा गांधी नहर परियोजना मंत्री महेंद्रजीतसिंह मालवीय ने कहा है कि उनकी प्राथमिकता यह है कि किसान परेशान नहीं हों। अधिकारी ध्यान रखें कि किसान ज्ञापनों के माध्यम से जितनी भी समस्याएं बताएं उन्हें हल करने के लिए अधिकारी अलग से बैठक करें। कोशिश करें कि किसान को परेशानी नहीं हो।

वे गुरुवार को शहर के सिचाई विश्रामगृह में स्काडा कंट्रोल रूम के उद्घाटन अवसर पर बोले रहे थे। उन्होंने कहा, वे किसान हैं और किसानों की पीड़ा समझते हैं। किसान की तीसरी पानी की बारी किसी भी स्थिति में नहीं पिटनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि आमतौर पर कहा जाता है कि अगला विश्वयुद्ध होगा तो पानी के लिए होगा। श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिला तो इसके लिए तैयार ही रहता है। प्रयास ऐसा रहे कि पानी के लिए कोई परेशान नहीं हो। इससे पहले श्रींगगानगर एमएलए राजकुमार गौड़ और श्रीकरणपुर के एमएलए गुरमीतसिंह कुन्नर ने इलाके की नहरी समस्याएं बताईं। उन्होंने कहा कि इलाके में नहरी पानी के लिए किसान को हमेशा संघर्ष करना पड़ता है।

ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि बिना संघर्ष के ही किसान को पानी मिले। जिला प्रमुख कुलदीप इंदौरा ने इलाके के किसानों की समस्याएं बताईं। उन्होंने कहा कि स्काडा सिस्टम लागू होने के बाद किसानों को आसानी से पानी की जानकारी मिल पाएगी। पूर्व सांसद और जिला परिषद सदस्य शंकर पन्नू ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम में जिला कलेक्टर रुक्मिणी रियार सिहाग, केश कला बोर्ड अध्यक्ष महेंद्र गहलोत, गंगनहर के एसई धीरज चावला सहित कई लोग मौजदू थे।