पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX57276.94-1 %
  • NIFTY17110.15-0.97 %
  • GOLD(MCX 10 GM)48432-0.52 %
  • SILVER(MCX 1 KG)62988-1.1 %

शिक्षक सम्मेलन का समापन:शिक्षकाें काे गैर शैक्षिक कार्यों से मुक्त करने व पीडी मद का बजट पीईईओ काे भेजने के मुद्दे उठाए ताकि समय पर मिल सके वेतन

श्रीगंगानगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिलेभर में शिक्षक संगठनों के दाे दिवसीय शैक्षिक सम्मेलन में समस्याओं पर किया मंथन

जिलेभर में शिक्षक संगठनों के दाे दिवसीय शैक्षिक सम्मेलन का मंगलवार काे समापन हाे गया है। वक्ताओं ने शैक्षिक विकास एवं उसमें नए बदलाव पर जोर दिया। शिक्षक संगठनों ने भी गैर शैक्षिक कार्यों से मुक्त करने, स्थायी एवं पारदर्शी स्थानांतरण नीति बनाने से लेकर कई मांगों को उठाया। सम्मेलन में खुला मंच कार्यक्रम भी हुआ।

शैक्षिक सम्मेलन: राजस्थान समायाेजित शिक्षाकर्मी संघ :राजस्थान समायाेजित शिक्षाकर्मी संघ का दाे दिवसीय जिला स्तरीय शिक्षक सम्मेलन श्री गुरुनानक खालसा उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयाेजित किया गया। इसमें वर्तमान परिप्रेक्ष्य में नई शिक्षा पद्धति एवं वाेकेशनल शिक्षा की आवश्यकता पर डाॅ. गुरजीत सिंह बाजवा, कमलजीत शर्मा, महेंद्र, हरजिंद्र सिंह सैनी आदि ने विचार व्यक्त किए। इस कड़ी में जिलाध्यक्ष संदीप सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नारायण तिवाड़ी ने पुरानी पेंशन लागू करने व उच्च न्यायालय में चल रहे प्रकरण की जानकारी दी। इस दाैरान सर्वसम्मति से संदीप सिंह ढिल्लाें काे फिर से जिलाध्यक्ष मनाेनीत किया गया। इसके साथ ही प्रताप सिंह काे जिला मंत्री व गजानंद चांडक काे काेषाध्यक्ष मनाेनीत किया। वहीं, कुलदीप सिंह का संरक्षक के रूप में मनाेनयन किया गया। मंच संचालन प्रताप सिंह चाैधरी ने किया।

राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील जिला शाखा श्रीगंगानगर के संत नामदेव मंदिर में आयोजित किए गए दो दिवसीय जिला स्तरीय शैक्षिक सम्मेलन के दूसरे दिन जिला महासमिति का सम्मेलन सभाध्यक्ष राजाराम स्वामी की अध्यक्षता में हुआ। इसमें उपप्रधानाचार्य के सभी पद पदाेन्नति से भरने, इसके लिए उपप्रधानाचार्य के नए पद सृजित किए जाने जो वर्तमान व्याख्याता के स्वीकृत पदों से अलग हो, 2007-2008 में नियुक्त तृतीय श्रेणी शिक्षकों की वेतन विसंगतियों को दूर करने, पीडी मद का बजट सीधे पीईईओ को ही भेजने के मुद्दे उठाए, जिससे शिक्षकों को समय पर वेतन मिले। प्रबोधकों की पदोन्नति में आ रही समस्याओं को दूर करने, पुस्तकालयाध्यक्ष की भी पदोन्नति सूचियां जारी कर इनकी पदोन्नति करने, एनपीएस को बंद करके पुरानी पेंशन बहाल करने के संबंध में प्रस्ताव पारित किए गए। द्वितीय चरण में सत्र 2020-21 की जिला कार्यकारिणी के चुनाव निर्वाचन अधिकारी कुलदीप गोदारा तथा प्रांतीय पर्यवेक्षक कृष्णलाल पूनिया के निर्देशन में हुए।

सर्वसम्मति से जिला कार्यकारिणी में सभाध्यक्ष पद पर राजाराम स्वामी, उपसभाध्यक्ष पद पर सुशील भारद्वाज, जिलाध्यक्ष आत्माराम गोदारा, कार्यकारी जिलाध्यक्ष महावीर अरोड़ा, जिला मंत्री महेन्द्रपाल धींगड़ा, अतिरिक्त जिला मंत्री आकाशदीप बिश्नोई, जिला कोषाध्यक्ष सत्यनारायण सुथार, वरिष्ठ उपाध्यक्ष धर्मपाल फगोड़िया तथा प्रतिभा गौड़ चुने गए। नवनिर्वाचित कार्यकारिणी सदस्यों को पूर्व प्रदेश महामंत्री अभिमन्युसिंह भदौरिया तथा वरिष्ठ साथी सुभाष अरोड़ा ने शपथ ग्रहण करवाई। कार्यक्रम में बलदेव सिंह संधु, सतपाल बिश्नोई, जसकरण सिंह बराड़, नरेन्द्र पूनियां, सतनाम सिंह, रविन्द्र सिंह, अतुल राठौड़, सत्यनारायण शर्मा, श्रवण भांभू, रमेश बवेजा, धर्मपाल भूंवाल, रविन्द्र सिंह बराड़, नीतिश साहू, पवन गुप्ता, मदन भाटिया माैजूद रहे।

राजस्थान शारीरिक शिक्षा शिक्षक संघ का दाे दिवसीय जिला शैक्षिक सम्मेलन अग्रसेन बाल विद्या मंदिर सेकंडरी स्कूल श्रीगंगानगर में जिला अध्यक्ष कुलदीप सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुआ। मुख्य अतिथि उप जिला शिक्षा अधिकारी स्वास्थ्य शिक्षा चरणजीत कौर, विशिष्ट अतिथि प्रिंसिपल अनामिका दाधीच, डॉ. शेर सिंह, गुरु नानक स्कूल से हरमंदर जाखड़, प्रांतीय कार्यकारिणी से सुमन गोदारा, मोहम्मद तुफैल, आत्माराम रहे। सर्वप्रथम सम्मेलन की शुरुआत मां सरस्वती को दीप प्रज्वलित कर की गई। उसके बाद परमजीत सिंह ने सभी पधारे मुख्य अतिथियों और गंगानगर जिले से दूर दराज से पहुंचे शारीरिक शिक्षकों का स्वागत किया।

उसके बाद प्रथम चरण में विद्यार्थियों की समाज में भूमिका पर विस्तृत रूप से चर्चा शुरू की। प्रांतीय कार्यकारिणी की सुमन गोदारा ने आपस में संगठित रहने के लिए और विश्वास बनाए रखने के बल पर जोड़ दिया। ब्लॉक अध्यक्ष गंगानगर कुलवीर कौर ने अधिकारों और कर्तव्यों को समानता समझते हुए हमें आगे की रणनीति बनाने पर जोर दिया। घड़साना ब्लॉक अध्यक्ष गोपीराम ने कहा कि वर्तमान में संगठित रहना अति आवश्यक है। इस सम्मेलन में सबसे बड़ी बात उभर कर आई कि हमारे शारीरिक शिक्षक समाज को बीएलओ कार्य थोप कर प्रताड़ित किया जा रहा है। सम्मेलन में मुख्य रूप से शारीरिक शिक्षकों ने बीएलओ कार्य से मुक्त रखने हेतु आवाज उठाई क्योंकि इस कार्य से खेल एवं खेल प्रतियोगिताएं लगातार प्रभावित हो रही हैं। इसका खमियाजा आने वाले समय में खेल के मैदानों में और खेल प्रतियोगिताओं में देखने को मिलेगा।

राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील के जिला स्तरीय शैक्षिक सम्मेलन के दूसरे दिन गुणवत्तापूर्ण शिक्षा, शिक्षक समस्याओं व रोजगार मुखी शिक्षा पर गहन मंथन व चिंतन किया गया। समापन सत्र की अध्यक्षता प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष जगदेव सिंह ने की। इस सत्र में अनेक प्रस्ताव सर्वसम्मति से पास कर राज्य सरकार को भेजने का फैसला किया गया। इसमें 1 जनवरी 2004 या इसके बाद नियुक्त शिक्षकों पर लागू अंशदायी पेंशन योजना को समाप्त कर पूर्व पेंशन नियम लागू करने, रिक्त पदों पर नई भर्ती शीघ्र शुरू करने, संविदा भर्ती बंद कर नियमित भर्ती करने, शिक्षकों को गैर शैक्षिक कार्यों से मुक्त करने, बीएलओ ड्यूटी से शिक्षकों को पूर्णतया मुक्त करने, शिक्षकों के स्थानांतरण के स्थायी नियम बनाए जाने, तृतीय श्रेणी शिक्षकों के स्थानांतरण शीघ्र करने, 7, 18, 21, 28 पर पदोन्नति देने, कक्षा वार शिक्षकों के पद देने, उच्च प्राथमिक विद्यालय में विषयवार पृथक-पृथक पद स्वीकृत करने, हेड टीचर का पद सामाजिक विज्ञान विषय हेतु स्वीकृत करने, प्रत्येक उच्च प्राथमिक विद्यालय में शारीरिक शिक्षक व व सहायक कर्मचारी का पद सृजित करने, आरपीएम की कटौती बंद करने, पंजाबी विषय के सभी कैडर के पद स्वीकृत कर भर्ती करने, विशेष शिक्षकों के पद स्वीकृत कर भर्ती शुरू करने, प्रत्येक उच्च माध्यमिक विद्यालय में हेड टीचर, कंप्यूटर शिक्षक, सामाजिक ज्ञान व अनिवार्य हिंदी अंग्रेजी के व्याख्याता पद सृजित करने, प्रत्येक उच्च प्राथमिक विद्यालय में विषय रहित प्रधानाध्यापक का पद सृजित करने की मांगाें पर चर्चा की गई। समापन सत्र में जिला मंत्री रेशम सिंह, जिला उपाध्यक्ष सुनील सिडाना, कोषाध्यक्ष बलविंदर सैनी, सादुलशहर तहसील अध्यक्ष सुभाष नेहरा, पदमपुर तहसील अध्यक्ष श्याम सिंह, कुलवीर सिंह आदि ने संबोधित किया।

खबरें और भी हैं...