पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

73वें गणतंत्र दिवस:दूसरे राज्यों से ला 14 से 16 घंटे तक करवाते थे मासूमों से काम...981 बच्चों को आजाद करवाया

श्रीगंगानगर4 महीने पहलेलेखक: मांगीलाल स्वामी
  • कॉपी लिंक
  • 73वें गणतंत्र दिवस पर पढ़िए आज उन लोगों-संस्थाओं की कहानियां, जो हमारे संवैधानिक अधिकारों की रक्षा के लिए कर रही संघर्ष
  • पुलिस की मानव तस्करी राेधी इकाई व चाइल्ड लाइन बच्चों को लौटा रही उनका बचपन...

गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में बात करेंगे बच्चाें के शाेषण से रक्षा के अधिकार की। राजस्थान में मानव तस्करी राेधी इकाई पुलिस की तरफ से तथा चाइल्ड लाइन एनजीओ केंद्र सरकार की ओर से बच्चाें के अधिकाराें की रक्षा का काम कर रहे हैं। दाेनाें संस्थाओ ने मिलकर 6 वर्षाें में 981 बच्चाें काे विभिन्न माध्यमाें से कानूनी, सामाजिक, आर्थिक और चिकित्सीय सहायता उपलब्ध करवाई गई है। इससे इन बच्चाें काे मिली मदद से इनका जीवन बदला है और बर्बाद हाेने से बचाया गया है।

106 गुमशदा बच्चे परिजनाें से मिलवाए तो 115 बाल विवाह भी रुकवाए गए

एएचटीयू की ओर से साल 2015 से 2021 अंत तक बाल श्रम करवाने वालाें के खिलाफ 124 मुकदमे दर्ज किए हैं और इस दाैरान 342 बालकाें काे मजदूरी के जाल से मुक्त करवाया गया है। एएचटीयू के प्रभारी सीआई धर्मपाल शेखावत ने बताया कि इन बच्चाें की उम्र 6 से 14 साल के बीच की है। 95 फीसदी बच्चे दूसरे राज्याें से यहां लाकर बाल श्रम करवाया जा रहा था। इन मासूम बच्चाें के बारे में एएचटीयू की टीम ने गाेपनीय तरीके से पता लगाया।

बच्चाें के अधिकाराें की रक्षा में काम कर रही चाइल्ड लाइन संस्था के निदेशक महेश पेड़ीवाल ने बताया कि 2015 से लेकर 2021 तक के 6 वर्षाें में संस्था ने 115 बाल विवाह रुकवाकर नाबालिग बच्चियाें और बच्चाें का जीवन बर्बाद हाेने से बचाया है। जिला समन्वयक त्रिलाेक वर्मा बताते हैं कि इस 6 साल की अवधि में एनजीओ की ओर से 152 बच्चाें का पता लगाकर बाल श्रम से मुक्त करवाया गया है।

इनके माता-पिता काे बाल श्रम नहीं करवाने काे बाल कल्याण समिति और पुलिस के माध्यम से पाबंद करवाया गया है। संस्था ने 106 गुमशुदा बच्चाें के परिजनाें की तलाशकर उनसे मिलवाकर परिवार के चेहराें पर खुशियां लाने का सार्थक काम किया है। संस्था के पास कई नाबालिग बच्चे सामाजिक स्तर पर भटकते मिले। इन 142 बच्चाें की हर स्तर पर काउंसलिंग की गई और इनके मन में आ रहे विकाराें काे दूर कर इनकाे वापस परिजनाें के साथ सुरक्षित रहने की व्यवस्थाएं की गईं। जिले के 124 गंभीर रूप से बीमार इलाज के लिए परेशान बच्चाें काे चिकित्सा सुविधा तथा सहायता उपलब्ध करवाई गई है।

गणतंत्र दिवस समारोह में प्रभारी मंत्री मेघवाल करेंगे ध्वजारोहण

गणतंत्र दिवस का मुख्य समारोह कोरोना गाइडलाइन के साथ मनाया जाएगा। समारोह में जिला प्रभारी मंत्री गोविंदराम मेघवाल सुबह 9:05 बजे ध्वजारोहण करेंगे। कलेक्टर रुक्मणि रियार सिहाग ने बताया कि राज्य सरकार की कोरोना गाइडलाइन के साथ गणतंत्र दिवस समारोह बुधवार काे डॉ. भीमराव अंबेडकर राजकीय महाविद्यालय में आयोजित किया जाएगा। प्रभारी मंत्री ध्वजारोहण के बाद परेड का निरीक्षण और मार्च पास्ट की सलामी लेंगे। एडीएम (प्रशासन) भवानी सिंह पवार की ओर से राज्यपाल के संदेश का पठन किया जाएगा। कार्यक्रम में कोराना जागरूकता पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...