पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नाबालिग दाे लड़कियाें की बालविवाह रुकवाई:बाल विवाह की शिकायत, प्रशासनिक टीम पहुंची, दुल्हन की वेशभूषा में थी किशाेरी

श्रीगंगानगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शिवपुर फतूही गांव में हाे रही नाबालिग लड़की की शादी काे प्रशासन ने रुकवा दिया है। परिवार काे बच्ची के बालिग हाेने तक शादी नहीं करने काे पाबंद किया गया है। घटना मंगलवार काे ही हुई। मिली जानकारी के अनुसार किसी अज्ञात व्यक्ति ने इस संबंध में कलेक्टर रुक्मणि रियार काे साेशल मीडिया पर सूचना दी थी। कलेक्टर ने इस सूचना काे चाइल्ड लाइन अाैर बाल कल्याण समिति काे देकर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए। इस पर प्रशासनिक टीम मंगलवार दाेपहर 12 बजे दी गई सूचना के अनुसार गांव में पहुंच गई।

वहां पर शादी का माहाैल था और घर में सजावट तथा गली में टैंट लगा हुआ था। राजपूत समाज के परिवार में दाे लड़कियाें की शादी थी और बारात सादुलशहर तहसील के गांव धिंगतानियां से आने वाली थी। प्रशासनिक टीम के पहुंचने से पहले ही परिवार ने नाबालिग लड़की काे गांव में ही किसी दूसरे घर भेजकर छिपा दिया। टीम ने दाेनाें लड़कियाें के आयु संबंधी दस्तावेज जांचे।

इसमें बड़ी लड़की 18 साल दाे माह की तथा छाेटी लड़की 16 साल 7 माह की पाई गई। परिवार से छाेटी लड़की काे पेश करने काे कहा ताे बहाने बनाए गए और कहा कि वह गंगानगर गई हुई है। प्रशासनिक टीम ने घर में ही डेरा डाल लिया ताे मजबूरन परिवार काे बच्ची पेश करनी पड़ी। लड़की दुल्हन की वेशभूषा में थी। उसने पूछने पर बताया कि उसकी शादी हाे रही है। प्रशासनिक टीम ने उसकी शादी नहीं करने काे परिवार काे पाबंद किया है। परिवार से लिखित में सहमति ली गई है।

पुलिस देखकर डीजे और फाेटाेग्राफर हुए फरार

परिजन व रिश्तेदार जगह या समय बदलकर बालिका का किसी अन्य स्थान पर विवाह नहीं कर दें इसलिए बाल कल्याण समिति एवं गिरदावर ने मौके की निगरानी के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व हिंदुमलकोट पुलिस थाना के एक पुलिसकर्मी की ड्यूटी लगाई है। कार्रवाई के दौरान हलवाई व फेरे करवाने वाले पंडित को बाल कल्याण समिति एवं पुलिस ने कानून का पाठ पढ़ाया।

मौका पाकर फोटोग्राफर व डीजे वाला फरार हो गया। बाल विवाह को रुकवाने में उच्च माध्यमिक विद्यालय की व्याख्याता सरोज मोंगा, वरिष्ठ अध्यापिका मीनाक्षी आहूजा, महिला एवं बाल विकास विभाग से साथिन उर्मिला देवी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता रचनपाल, आशा सहयोगिन प्रमिला देवी की टीम भी सरायनीय मदद की।

दूल्हा पक्ष काे एक ही बारात लेकर आने काे किया पाबंद

बाल कल्याण समिति अध्यक्ष जोगेंद्र कौशिक, सदस्य आंनद मारवाल, वंदना गौड़, विपिन सांखला, चाइल्ड लाइन के जिला समन्वयक त्रिलोक वर्मा, शिवपुर फतुही हल्का गिरदावर, पटवारी व हिंदुमलकोट थाना से एएसआई रतिराम मय पुलिस जाब्ते आदि मौके पर पहुंचे। पुलिस ने दूल्हा पक्ष के जिम्मेदार व्यक्ति काे फाेन कर बड़े लड़के की एक ही बारात लेकर शादी करने के लिए आने काे पाबंद किया गया। उनकाे बताया गया कि छाेटी लड़की बालिग नहीं हुई है। इसलिए 15 माह तक लड़की की शादी नहीं की जा सकती। गांव के कई नेताओं ने दबाव बनाकर शादी हाेने देने के प्रयास भी किए। लेकिन टीम ने सभी काे साफ मना कर दिया।

खबरें और भी हैं...