पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दो लोगों ने की थी फायरिंग के आरोपी की मदद:टांटिया हॉस्पिटल में फायरिंग से पहले हुई थी रैकी, आरोपी के साथियों ने इसमें किया था सहयोग

श्रीगंगानगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीगंगानगर का टांटिया हॉस्पिटल। - Money Bhaskar
श्रीगंगानगर का टांटिया हॉस्पिटल।

टांटिया हॉस्पिटल पर फायरिंग से पहले आरोपियों ने इलाके की रैकी। उन्होंने पता लगाया कि सुबह के समय हॉस्पिटल में क्या हालात होते हैं। तमाम हालात की जानकारी मिलने के बाद उन्होंने वारदात को अंजाम दिया। इस काम में दो लोगों ने मुख्य आरोपी हनुमानगढ़ जिले के संगरिया थाने के गांव बोलांवाली निवासी विशाल पचार उर्फ बबलू पचार का सहयोग किया था। पूछताछ में मुख्य आरोपी के दो सहयोगियों की भूमिका सामने आने के बाद उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया है। इन दोनों को पुलिस ने विशाल पचार की गिरफ्तारी के समय ही पकड़ लिया था।

दोनों ने विशाल को श्रीगंगानगर में रुकवाया, रैकी की
दोनों आरोपियों पंजाब के फाजिल्का जिले की अबोहर तहसील के गांव भागू निवासी दीपक जाखड़ पुत्र सज्जन कुमार तथा श्रीगंगानगर जिले की घमूड़वाली थाना क्षेत्र के गांव जोड़किया (83 एलएनपी ) निवासी मंगेश बिश्नोई पुत्र सुरेंद्र कुमार को भी गिरफ्तार कर लिया गया। जांच अधिकारी राम विलास ने बताया कि दोनों आरोपियों से कड़ाई से पूछताछ में सामने आया कि उन्होंने ही आरोपी विशाल पचार उर्फ बबलू पचार को श्रीगंगानगर में रुकने और हॉस्पिटल की रैकी करने में मदद की।

गैंगस्टर के फायरिंग करवाने का उद्देश्य साफ नहीं
हॉस्पिटल मैनेजमेंट को अब तक फिरौती या अन्य कोई धमकी का फोन नहीं आया है। ऐसे में वारदात को अंजाम क्यों दिया गया। यह अभी स्पष्ट नहीं है। जांच अधिकारी राम विलास ने बताया कि मुख्य आरोपी पंजाब के गैंगस्टर सचिन थापन के इशारे पर विशाल पचार ने हॉस्पिटल पर फायरिंग की। हालांकि अब तक फिरौती जैसा कुछ भी सामने नहीं आया है।

खबरें और भी हैं...