पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्लोगन लिखकर दिया संदेश:बालिका दिवस पर पाेस्टर बना बच्चियों ने उकेरी मन की पीड़ा

श्रीगंगानगर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड स्थनीय संघ अनूपगढ़ के तत्वावधान में राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य में स्लोगन व पेंटिंग बना कर संदेश दिया। सचिव राजाराम डाल ने कहा कि इस दिवस को मनाने का उद्देश्य समाज में बालिकाओं को उनके अधिकार के प्रति तथा उनके साथ होने वाले भेदभाव के प्रति लोगों को जागरूक करना है। स्काउट गाइड संस्था विश्व स्तर पर अनेक वर्षों से फ्री वीइंग मी जैसे कार्यक्रमों का आयोजन कर इस भेदभाव को मिटाने का सतत प्रयास कर रही है।

इस अवसर पर एडवोकेट रमेश शेवकानी ने कहा कि सारे जग की मुस्कान है बेटियां ,बेटी बोझ नहीं सम्मान हैं बेटियां, इससे बड़ा कोई धन नहीं ना इससे बड़ा सम्मान, ईश्वर की दी भेंट है बेटी। इसकी अलग पहचान, आज वार्ड पंच, वार्ड पार्षद से लेकर सरपंच नगर पालिका अध्यक्ष उप जिला कलेक्टर और कलेक्टर जैसे बड़े-बड़े पदों पर बेटियां सुशोभित हैं। बहुत खुशी और गर्व महसूस हो रहा है राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाते हुए बेटियों की सुरक्षा करना हमारा परम कर्तव्य है। इसमें गाइड पूनम वर्मा और रिया ने पोस्टर बनाकर अपनी भावनाएं व्यक्त कीं।

जागरूकता कार्यक्रम में बाल विवाह निषेध अधिनियम की दी जानकारी

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली व राजस्थान विधिक सेवा प्राधिकरण, जयपुर के तत्वावधान में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, श्रीगंगानगर की ओर से साेमवार को राष्ट्रीय बालिका दिवस पर विधिक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें कोरोना महामारी के ओमिक्राॅन वैरिएंट के प्रसार को देखते हुए उक्त कार्यक्रम विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं में बालिकाओं के साथ ऑनलाइन वर्चुअल मोड पर किया गया।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के लिंक अधिकारी (मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट) विनोद कुमार गुप्ता के निर्देशानुसार विधिक जागरूकता कार्यक्रम के आयोजन में ज्योति गोस्वामी, पैनल अधिवक्ता ने ऑनलाइन जुड़ी हुई बालिकाओं को बाल विवाह निषेध अधिनियम, कन्या भ्रूण हत्या, शिक्षा का अधिकार एवं बालिकाओं से संबंधित विभिन्न योजनाओं व अधिकारों के बारे में जानकारी देकर उन्हें जागरूक किया गया। इसी दौरान विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं में बालिकाओं के मध्य निबंध व पोस्टर पेंटिंग आदि प्रतियोगिताएं भी आयोजित करवाई गईं।

नारी शक्ति पुरस्कार के लिए 30 जनवरी तक ऑनलाइन आवेदन मांगे

श्रीगंगानगर| महिला एवं बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से 8 मार्च काे अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला विकास एवं महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाली संस्था एवं व्यक्ति को राज्य स्तर पर नारी शक्ति पुरस्कार से पुरस्कृत किए जाने के लिए आवेदन 30 जनवरी तक ऑनलाइन आंमत्रित किए गए हैं। सहायक निदेशक महिला अधिकारिता विजय कुमार ने बताया कि पुरस्कार के लिए महिलाओं के आर्थिक,

सामाजिक सशक्तीकरण एवं लैंगिक समानता की दिशा में उल्लेखनीय कार्य किया हो, व्यक्तिगत पुरस्कार के लिए आवेदन करता हो वो 1 जुलाई 2021 को 25 वर्ष आयु का होना एवं संस्थागत श्रेणी के आवेदन करने वाली संस्था के पास महिला विकास एवं महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में कार्य करने का 5 वर्ष का अनुभव होना जरूरी है। व्यक्तिगत एवं संस्थागत श्रेणी द्वारा पूर्व में पुरस्कार प्राप्त नहीं किया हो, केवल वे ही आवेदन कर सकते हैं। आवेदन केवल ऑनलाइन वेबसाइट पर www.awards.gov.in स्वीकार किए जाएंगे। ऑनलाइन वेबसाइट का लिंक विभाग की वेबसाइट www.wcd.nic.in पर उपलब्ध रहेगा।

खबरें और भी हैं...