पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

थाने में दो भाईयों से मारपीट:जेल में बंद करने की धमकी, पुलिस बोली- मारने की बात झूठी

सीकरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोसल पुलिस थाना। - Money Bhaskar
लोसल पुलिस थाना।

एक मामले में राजीनामा नहीं करने पर दो भाइयों से थाने में मारपीट होने का मामला सामने आया है। दोनों ने थानाधिकारी और एक पुलिसकर्मी पर मारने का आरोप लगाया है। बताया कि, राजीनामा नहीं करने पर जेल में बंद करने की चेतावनी दी। अब दोनों भाइयों ने एडिशनल एसपी को शिकायत की है।

सीकर के लोसल के रहने वाले इमरान ने बताया कि 20 मई को उसके पिता हारून को इलाके में हुए एक मामले में थाने बुलाया गया। काफी देर तक वापिस नहीं आने पर वह थाने गया। वहां थानाधिकारी सज्जन सिंह और मदन नाम के एक पुलिसकर्मी ने उसे थप्पड़ मारे साथ ही गालियां देना शुरू कर दिया। इसके बाद बेल्ट से भी मारपीट की। पुलिसकर्मियों ने मामले में राजीनामा नहीं करने पर जिंदगी भर के लिए जेल में बंद करने की धमकी दी।

पथरी का ऑपरेशन, फिर भी युवक को मारते रहे
कुछ देर बाद छोटा भाई सोयल अंदर आया तो पुलिसकर्मी मदन ने बिना बात किए ही उसके साथ मारपीट शुरू कर दी। सोयल बार-बार कहता रहा कि उसका 10 दिन पहले ही पथरी का ऑपरेशन हुआ है। फिर भी उसके साथ मारपीट करते रहे। इसके बाद पुलिस ने मारपीट की बात को छुपाने के लिए दोनों पक्षों के 6 लोगों को शांति भंग के मामले में जेल में डाल दिया। 2 घंटे बाद वापस छोड़ दिया। इमरान ने थाना अधिकारी सज्जन सिंह और मदन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

20 मई को सुबह पोस्टर लगाने की बात पर हुआ था विवाद
20 मई को लोसल में इंतजाम या कमेटी के कुछ सदस्य जमीन की कमेटी पर पोस्टर लगाने के लिए गए थे। इसके बाद दूसरे पक्ष के कुछ लोगों ने हमला कर दिया था। ऐसे में आस-पास के लोगों ने बीच-बचाव कर मामला शांत करवाया था। मामले में कमेटी के असलम ने पुलिस में इसकी शिकायत भी की थी।

थानाधिकारी ने कहा, मारपीट जैसी घटना नहीं
मामले में लोसल थानाधिकारी सज्जन सिंह का कहना है कि दोनों पक्षों के बीच कमेटी की सामूहिक जमीन पर पोस्टर लगाने को लेकर विवाद हुआ था। मामले में दोनों पक्षों के लोगों को शांति भंग में गिरफ्तार भी किया गया था। थाने में मारपीट जैसी कोई भी घटना नही हुई है।

रिपोर्ट : सुरेंद्र कुमार निराणिया,लोसल