पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

750 सैनिक-पूर्व सैनिकों के कस्बों में खुलेंगे कैंटीन:राज्य सैनिक सलाहकार समिति उपाध्यक्ष बोले- हर सप्ताह हो सैनिकों-पूर्व सैनिकों की सुनवाई

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अधिकारियों से फीडबैक लेते हुए।

राज्य सैनिक सलाहकार समिति के उपाध्यक्ष रामसहाय बाजिया सोमवा को एक दिवसीय दौरे पर सीकर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने सैनिकों की विभिन्न समस्याओं को लेकर प्रशासनिक अधिकारियों से जानकारी ली। इसके साथ ही पूर्व सैनिकों को दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गहलोत सैनिकों को दी जाने वाली योजनाओं और उनकी समस्याओं के प्रति काफी संवेदनशील है।

सैनिकों को मिल रही सुविधाएं और भूतपूर्व सैनिकों की समस्याओं को लेकर राज्य सैनिक सलाहकार समिति के उपाध्यक्ष ने अधिकारियों से फीडबैक लिया। बाजिया ने बताया कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सैनिकों व पूर्व सैनिकों को दी जाने वाली योजनाओं और उनकी समस्याओं को लेकर गंभीर हैं। सैनिक देश का सम्मान है, पूरा देश उनके साथ खड़ा है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिला प्रशासन की ओर से सप्ताह में एक दिन सैनिकों और पूर्व सैनिकों की जनसुनवाई की जाए ताकि उनकी समस्या का प्राथमिकता से निदान किया जा सके।

बड़े कस्बों में खुलेंगे कैंटीन
प्रदेश और जिले में शहीदों के नामकरण को लेकर उन्होंने कहा कि शहीद देश की आन-बान-शान है। इनके नाम से राज्य सरकार की ओर से सड़कों में विद्यालयों का नामकरण पहले भी लगातार किया जा रहा है और आगे भी शहीदों का सम्मान करते हुए स्कूलों व सड़कों का नामकरण किया जाएगा। जिला मुख्यालय से 50 किलोमीटर दूरी पर स्थित बड़े कस्बों में 750 सैनिकों और पूर्व सैनिकों की संख्या होने पर वहां पर कैंटीन की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी।