पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12वीं होते ही घरवालों ने शादी की,अब बनीं असिस्टेंट प्रोफेसर:महिला कैटेगरी में राजस्थान किया टॉप, बोली- पति ने दिया साथ

सीकर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुभिता ढिल्लन।

चूल्हे चौके से आगे आकर अब महिलाएं हर क्षेत्र में नाम कमा रही है। पहले की बजाए अब परिवार भी उन्हें मोटिवेट करते हैं। ये कहना है, कॉलेज असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती परीक्षा में राजस्थान में 6th रैंक हासिल करने वाली सीकर की सुभिता ढिलन्न का। उन्होंने महिला कैटेगरी में पूरे राजस्थान को टॉप किया है। सुभिता इससे पहले भी दो सरकारी नौकरी हासिल कर चुकी है।

असिस्टेंट प्रोफेसर में सफल होने पर सुभिता ढिलन्न ने बताया कि 12वीं पास होने के बाद ही घरवालों ने उनकी शादी कर दी थी। पति राजेश सीकर के प्रिंस एजुकेशन हब में मैनेजमेंट का हिस्सा है। शादी के बाद जब पढ़ने की इच्छा जाहिर की तो उनका पूरा साथ मिला। बीएससी के बाद b.Ed कर 2013 में थर्ड ग्रेड टीचर बनी। इसके बाद भी पढ़ाई का सिलसिला जारी रखा और एमएससी की। 2020 में स्कूल व्याख्याता एग्जाम में पूरे स्टेट में पहला स्थान हासिल किया। और अब कॉलेज असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती परीक्षा में राजस्थान में छठीं रैंक हासिल की है।

पति राजेश के साथ सुभिता।
पति राजेश के साथ सुभिता।

पति ने घर का काम किया,दोनो बेटियों को संभाला

सुभिता ने बताया कि 2020 में जब वह एग्जाम की तैयारी कर रही थी। उस दौरान वह गर्भवती थी । ऐसे में राजेश अपनी नौकरी करते और घर आने के बाद घर का सारा काम भी खुद करते और मुझे हमेशा पढ़ाई करने के लिए कहते। असिस्टेंट प्रोफेसर एग्जाम की तैयारी के समय दोनों बेटियों को अपनी बहन के पास छोड़ कर आते थे। जिसके बाद वह घर पर रहकर पढ़ाई करती थी। शाम को जॉब से वापस लौटते समय दोनों बेटियों को वापस साथ लेकर आते थे।

धैर्य और डेडिकेशन जरूरी

सुभिता ने कहा कि कंपीटीशन एग्जाम की तैयारी के लिए धैर्य और डेडिकेशन बहुत जरूरी है। जब तक दोनों चीजों को लाइफ में नहीं अपनाते लक्ष्य को नहीं पा सकते हैं। सुभिता ने कहा कि पहले की बजाय अब समाज में महिलाएं हर क्षेत्र में आगे आ रही हैं। महिलाओं को अब चूल्हे चौके से ज्यादा पढ़ाई के लिए घरवाले मोटिवेट कर रहे हैं। ऐसे में उन्हें पढ़-लिखकर अपने समाज और परिवार का नाम रोशन करना चाहिए।

बच्चों के साथ राजेश और सुभिता। दोनों के तीन बच्चे हैं। एक जुड़वा बेटा और बेटी सुभिता को स्कूल व्यख्याता एग्जाम एक बाद हुए। प्रेग्नेंट होने के बाद भी सुभिता ने अपनी यह पढाई जारी रखी।
बच्चों के साथ राजेश और सुभिता। दोनों के तीन बच्चे हैं। एक जुड़वा बेटा और बेटी सुभिता को स्कूल व्यख्याता एग्जाम एक बाद हुए। प्रेग्नेंट होने के बाद भी सुभिता ने अपनी यह पढाई जारी रखी।

तीन सरकारी नौकरी हासिल की

सुभिता के पति राजेश ने कहा कि शादी के बाद से ही उनकी पत्नी की पढ़ाई में रुचि थी। एजुकेशन सेक्टर से जुड़े होने के कारण राजेश ने अपनी पत्नी की इच्छा पूरी की। उन्हें पढ़ने के लिए हर एक साधन उपलब्ध करवाया। राजेश ने कहा कि उन्हें हमेशा से ही लगता था कि उनकी पत्नी भविष्य में कई ऊंचाइयों पर जाएगी। आज पत्नी सुभिता तीसरी नौकरी हासिल कर चुकी है।