पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

42 घंटे बाद भी व्यवस्थाएं नहीं हुई दुरुस्त:अंधड़ में ट्रांसफार्मर गिरे, पोल टूटे, बिजली विभाग को लाखों का नुकसन

फतेहपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इलाके में सोमवार रात को आए तूफान के बाद 42 घंटे बाद भी जनजीवन सामान्य नहीं हो पाया है। फतेहपुर उपखंड के आधा दर्जन गावों में व कई ढाणियों में अभी तक बिजली की आपूर्ति सुचारू रूप से शुरू नहीं हो पाई है। हर वर्ष मरम्मत के नाम पर लाखों रुपए खर्च करने वाले विभाग की पहली ही बरसात और बवंडर में पोल खुल गई। हालांकि तूफान की रफ्तार इतनी ज्यादा थी ट्रांसफार्मर के स्ट्रक्चर तक टूट कर गिर गए। एक एक फीडर में 15 - 15 जगह फाल्ट हो गया। नतीजा 42 घंटे बाद भी विद्युत सप्लाई शुरू नहीं हो पाई। फतेहपुर के तिहावली सदीन सर कायमसर जैसे कई गांव में अभी तक बिजली नहीं आई है। हालांकि बिजली विभाग इसे चालू करने की मशक्कत कर रहा है।स

हायक अभियंता अजीत पाल ने बताया कि तूफान की रफ्तार बेहद ज्यादा थी आमतौर पर 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलती है तब तक बिजली के पोल गिरने ट्रांसफार्मर के स्ट्रक्चर गिरने व टूटने जैसी नौबत बहुत कम आती है। लेकिन इस तूफान की रफ्तार 50 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ज्यादा थी ऐसे में निगम को भारी नुकसान हुआ है व निगम की मरम्मत के कार्य भी तहस-नहस हो गए हैं। अजीत पाल ने बताया कि बवंडर आने के बाद रात से ही बिजली निगम के कर्मचारी बिजली व्यवस्था दुरुस्त करने में लग गए। कई गांव की बिजली दूसरे दिन दुरुस्त कर दी गई लेकिन मुख्यालय से दूर स्थित गांव में बिजली व्यवस्था आज शाम तक शुरू हो पाएगी।

उधर ग्रामीणों का कहना है कि बिजली नहीं आने से पूरी दिनचर्या अस्त-व्यस्त हो गई है। बिजली नहीं आने से पेयजल की सप्लाई नहीं हो पा रही है। ऐसे में आमजन के साथ-साथ पशुधन के लिए भी दिक्कत हो रही है।

लाखों रुपए का हुआ है नुकसान

बवंडर से बिजली विभाग को लाखों रुपए का नुकसान हुआ है। 2 दर्जन से अधिक एलटी लाइन पोल टूट गए। इसके अलावा 2 दर्जन से अधिक 11000 केवी लाइन के पोल टूट गए। आधा दर्जन स्थानों पर ट्रांसफार्मर स्ट्रक्चर टूट गए।

खबरें और भी हैं...