पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %
  • Business News
  • Local
  • Rajasthan
  • Today 250 MW Power Generation Unit Started In Chhabra, Demand For Electricity Decreased Due To Rain In The State Of Rajasthan

बिजली संकट के बीच राहत की दो बड़ी खबरें:आज छबड़ा में 250 मेगावाट बिजली प्रोडक्शन यूनिट शुरू,प्रदेश में बारिश के कारण घटी बिजली की मांग

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सूरतगढ़ थर्मल पावर प्लांट,राजस्थान। - Money Bhaskar
सूरतगढ़ थर्मल पावर प्लांट,राजस्थान।

राजस्थान में बिजली संकट के बीच राहत की दो बड़ी खबरें हैं। पहली यह कि छबड़ा थर्मल पावर प्लांट में आज से 250 मेगावाट की यूनिट नम्बर 2 शुरू हो गई है। दूसरी राहत की खबर यह है कि पिछले तीन दिन से प्रदेश में हुई बारिश से हवा में ठंडक घुल गई है। दिन और रात के तापमान में 3 डिग्री तक की गिरावट दर्ज की गई है। जिससे बिजली का इस्तेमाल भी घटा है। ऐसे में बिजली संकट में बड़ी राहत मिली है।

छबड़ा थर्मल पावर प्लांट।
छबड़ा थर्मल पावर प्लांट।

छबड़ा पावर प्लांट में में 250 मेगावट की बिजली प्रोडक्शन यूनिट शुरू

छबड़ा थर्मल पावर प्लांट में ओएंडएम की 250 मेगावाट की 2 नम्बर यूनिट आधी रात के बाद 2 बजकर 15 मिनट पर सिंक्रोनाइज हो गई है। यह यूनिट शुरू होने से राजस्थान को 250 मेगावाट बिजली और मिलने लगेगी। इसेे बिजली किल्लत के बीच एक राहत भरी खुशखबर माना जा रहा है। राजस्थान विद्युत उत्पादन निगम लगातार ऐसे प्लांट्स की यूनिट्स को शुरू करवाने पर जोर दे रहा है, जो कोयला संकट के कारण बन्द हैं। कोयले की खेंप जैसे-जैसे बढ़ रही है,उन यूनिट्स को फिर से शुरू करवाया जा रहा है।

उदयपुर में बारिश का नजारा।
उदयपुर में बारिश का नजारा।

कोटा,जयपुर,भरतपुर,उदयपुर,बीकानेर सम्भाग में बारिश से घटी बिजली की मांग

पिछले 2 दिन से 5 सम्भागों में हल्की से मध्यम दर्जे की बारिश ने मौसम में ठंडक घोल दी है। इसका सीधा असर बिजली कंजम्पशन पर पड़ा है। बिजली के उठाव और मांग में गिरावट दर्ज हुई है। इससे दिन और रात के तापमान में भी 3 डिग्री तक गिरावट दर्ज हुई है। राजधानी जयपुर समेत प्रदेश के दो दर्जन जिलों में अच्छी बारिश बीते 24 घंटों में हुई है। भीलवाड़ा में 53 मिलीमीटर तक बारिश रिकॉर्ड हुई है। पोस्ट मॉनसून की बारिश से एक बार फिर बिजली संकट से राहत मिली है। गर्मी और उमस से राहत मिलने के कारण बिजली का इस्तेमाल घटा है। बिजली की मांग में भी कमी दर्ज हुई है। जिससे बिजली कंपनियों को मौजूदा उपलब्ध बिजली की बचत हुई है।

जयपुर में एक बिजली फीडर
जयपुर में एक बिजली फीडर

868 मेगावाट बिजली उपलब्धता बढ़ी

राज्य में रविवार को बिजली की अनुमानित मांग औसतन 9861 मेगावाट और अधिकतम मांग 11600 मेगावाट रही है। जबकि राज्य में करीब 9585 मेगावाट बिजली उपलब्ध रही है। मौजूदा औसत मांग से अभी 276 मेगावाट बिजली कम उपलब्ध है, जबकि अधिकतम मांग से 2015 मेगावाट बिजली अभी भी कम है। जबकि तीन दिन पहले अधिकतम बिजली की मांग 12200 मेगावाट औसत तौर पर रही थी। औसत मांग भी 10683 मेगावाट थी। जबकि बिजली उपलब्धता 9317 मेगावाट थी। बिजली की कुल 2883 मेगावाट कमी दर्ज की गई थी। आंकड़ों को देखा जाए, तो 868 मेगावाट बिजली उपलब्धता पहले के मुकाबले अब बढ़ी है।

सीएम ने बिजली विभाग और कंपनियों को कम बिजली कटौती के दिए हैं निर्देश
सीएम ने बिजली विभाग और कंपनियों को कम बिजली कटौती के दिए हैं निर्देश

सीएम ने दिए हैं कम से कम बिजली कटौती के निर्देश

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बिजली के हालातों की रेग्युलर समीक्षा कर रहे हैं।उन्होंने बिजली का प्रोडक्शन बढ़ाने और कटौती कम से कम करने के निर्देश दिए गए हैं।साथ ही राज्य में कोयला की उपलब्धता बनाए रखने के लिए केन्द्र सरकार, कोल इंडिया और इसकी सब्सिडरी यूनिट्स से कॉर्डिनेशन के साथ कोयला सप्लाई बढ़ाने का दबाव बनाने को कहा है।

खबरें और भी हैं...