पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कर्नाटक हिंसा में राजस्थान के युवक पर जानलेवा हमला:साथी बोला- भीड़ में शामिल एक दंगाई ने पेट में घोंप दिया चाकू

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कर्नाटक के शिवमोगा शहर में सोमवार को पोस्टर लगाने को लेकर हुए विवाद के बाद वीर सावरकर और टीपू सुल्तान समर्थक भिड़ गए। हिंसा में एक राजस्थानी युवक भी गंभीर रूप से घायल हो गया। फिलहाल युवक शिवमोगा के हॉस्पिटल के ICU वार्ड में जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहा है।

घायल युवक प्रेमसिंह (20) बाड़मेर के गंगासर का रहने वाला है। वह वहां कपडे़ की दुकान में काम करता है। बवाल के बाद जब वह अपने दोस्तों के साथ दुकान बंद कर भाग रहा था, तभी उस पर अचानक हमला हो गया। लोगों ने उसे संभाला।

आंखों देखी : भीड़ में शामिल युवक ने पेट में मारा चाकू
बाड़मेर के जसवंत सिंह ने दैनिक भास्कर को बताया कि वह और प्रेमसिंह शिवमोगा में राजस्थान के सिवाना निवासी कुशालराम माली की कपडे़ की दुकान पर काम करते हैं। सोमवार दोपहर करीब 2 बजे अचानक मार्केट में हंगामा हो गया। वीर सावरकर और टीपू सुल्तान समर्थक आमने-सामने हो रहे थे। विवाद बढ़ता देख हमने भी दुकान बंद कर दी और घर की तरफ भागने लगे।

गांधी बाजार इलाके की सब्जी मंडी में नकाबपोश 10-15 युवकों की भीड़ ने हम पर हमला बोल दिया। थप्पड़ और लात-घूंसे मारने लगे। मैं जैसे-तैसे बचकर भागा, लेकिन उन्होंने प्रेम सिंह को पकड़ लिया। भीड़ में शामिल एक युवक ने प्रेम सिंह के पेट में चाकू मार दिया। वो बुरी तरह चीखता हुआ जमीन पर गिर गया। मौके पर चीख-पुकार मची तो हमलावर भाग गए।

हालत गंभीर, ICU में भर्ती
जब हमलावर भागे तो प्रेमसिंह ने ही दुकान मालिक कुशालराम को कॉल कर घटना के बारे में बताया। प्रेम सिंह को मेघना सरकारी हॉस्पिटल लेकर पहुंचे, जहां उसका ऑपरेशन किया गया है। अभी भी उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। वह ICU वार्ड में ही एडमिट है। फिलहाल कई मंत्री और नेता हॉस्पिटल पहुंच रहे हैं।

घर में कमाने वाला इकलौता
जसवंत सिंह ने बताया कि प्रेम सिंह बेहद गरीब परिवार से है। घर में इकलौता कमाने वाला है। पिता उत्तम सिंह गांव में ही खेती करते हैं। परिवार में मां लक्ष्मी कंवर के अलावा एक छोटे भाई और दो बहनों की जिम्मेदारी भी प्रेम सिंह पर ही है। इसके चलते ही वह घर से दूर यहां दुकान पर रहकर मजदूरी कर रहा है।

पोस्टर लगाने को लेकर हुआ था विवाद
दरअसल, सोमवार को शिमोगा के अमीर अहमद सर्किल में हिंदू संगठन के लोगों ने वीर सावरकर का पोस्टर लगाया था। इसके बाद टीपू सुल्तान सेना ने विरोध किया और अपना झंडा लेकर पहुंच गए। इन्होंने टीपू सुल्तान के पोस्टर लगाने की कोशिश की। विवाद रोकने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा था। बाद में सावरकर का पोस्टर भी हटा दिया गया।

इधर मामले को लेकर BJP और अन्य हिंदू संगठनों ने विरोध प्रदर्शन किया है। उनकी मांग है कि सावरकर के पोस्टर लगाने की अनुमति दी जाए और दूसरे समूह के खिलाफ सावरकर का अपमान करने को लेकर कार्रवाई की जाए।

तनाव को देखते हुए पूरे शिवमोगा शहर में धारा- 144 लगा दी गई है। वहीं, भारी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। शिवमोगा के DM ने मंगलवार को शहर और भद्रावती टाउन लिमिट में स्कूल और कॉलेज बंद रखने का आदेश दिया है।