पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX58461.291.35 %
  • NIFTY17401.651.37 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47394-0.41 %
  • SILVER(MCX 1 KG)60655-1.89 %
  • Business News
  • Local
  • Rajasthan
  • Instead Of October 24, 5 Lakh Women Will Take The Exam On October 23, Decision Of Relief On The Festival Of Akhand Suhag

5 लाख महिलाएं एक दिन पहले देंगी पटवारी परीक्षा:करवा चौथ के चलते कर्मचारी चयन बोर्ड ने दी बड़ी राहत, नजदीक के सेंटर अलॉट

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
करवा चौथ पर महिलाओं को नहीं देनी पड़ेगी पटवारी परीक्षा। - Money Bhaskar
करवा चौथ पर महिलाओं को नहीं देनी पड़ेगी पटवारी परीक्षा।

पटवारी भर्ती परीक्षा में शामिल होने वाली महिला अभ्यर्थियों को बड़ी राहत मिली है। करवा चौथ को देखते हुए राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड ने 5 लाख से ज्यादा महिला अभ्यर्थियों को राहत देते हुए 23 अक्टूबर को ही उनकी परीक्षा करवाने का फैसला लिया है, जिनकी परीक्षा 24 अक्टूबर को होनी है। हालांकि अलवर और धौलपुर में पंचायत चुनाव के कारण 23 अक्टूबर की बजाय 24 अक्टूबर को ही परीक्षा होगी। वहां महिला कैंडिडेट्स को घर के नजदीक के एग्जाम सेंटर अलॉट किए गए हैं।

करवा चौथ पर दिनभर भूखे-प्यासे रहकर चंद्रमा को दिया जाता है अर्घ्य।
करवा चौथ पर दिनभर भूखे-प्यासे रहकर चंद्रमा को दिया जाता है अर्घ्य।

करवा चौथ पर महिलाओं को राहत

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड अध्यक्ष हरिप्रसाद शर्मा ने बताया कि 23 और 24 अक्टूबर को होने वाली पटवरी परीक्षा 2021 में लगभग 15 लाख 63 हजार से ज्यादा कैंडिडेट रजिस्टर्ड हैं। इसमें महिला अभ्यर्थियों की संख्या 5 लाख से ज्यादा है। प्रत्येक पारी में लगभग 4 लाख कैंडिडेट्स परीक्षा देंगे। लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति बनाए रखना और अनावश्यक भीड़भाड़ नहीं करना भी चुनौती है। 24 अक्टूबर को करवा चौथ होने के कारण यह फैसला लिया गया है कि 23 अक्टूबर को ही सभी महिला कैंडिडेट की परीक्षा आयोजित करवा दी जाएगी। ताकि 24 अक्टूबर को करवा चौथ का पर्व वो अपने घर-परिवार में मना सकें।

अलवर और धौलपुर में 24 अक्टूबर को नजदीकी केन्द्रों पर होगी परीक्षा

अलवर और धौलपुर में पंचायती चुनाव के कारण परीक्षा 23 की बजाय 24 अक्टूबर को रखी गई है। इन जिलों में महिला कैंडिडेट्स को नजदीकी जगह ही केन्द्र अलॉट किए गए हैं। प्रदेशभर में पटवारी भर्ती परीक्षा के कैंडिडेट्स यह मांग उठा रहे थे कि महिलाओं के अमर सुहाग के पर्व और करवा चौथ के कठिन नियमों वाले व्रत को देखते हुए इस दिन महिलाओं की परीक्षा नहीं रखी जाए। मामले की नजाकत को भांपते हुए यह फैसला लिया गया है।

खबरें और भी हैं...