पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60445.01-0.51 %
  • NIFTY17964.6-0.82 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47943-0.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61414-0.3 %

RJS प्री 2021 पेपर का एनालिसिस:2 प्रश्न आउट ऑफ सिलेबस,1 में एरर,एक्सपर्ट्स बोले- 65 फीसदी तक कटऑफ की उम्मीद, कल देखें आंसर-की

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
RJS प्री की परीक्षा रविवार को आयोजित हुई। दैनिक भास्कर ने सब्जेक्ट एक्सपर्ट और स्टूडेंट्स से पेपर की समीक्षा करवाई है।

RJS प्री की परीक्षा रविवार को आयोजित हुई। दैनिक भास्कर ने सब्जेक्ट एक्सपर्ट और स्टूडेंट्स से पेपर की समीक्षा करवाई है। एग्जाम देने वाले स्टूडेंट्स यह मानकर चल रहे हैं कि पास होने के लिए 60 फीसदी से ऊपर कट-ऑफ जा सकती है। 3 प्रश्नों ने कैंडिडेट्स को बहुत कनफ्यूज किया। दो प्रश्नों को कैंडिडेट्स और एक्सपर्ट्स सिलेबस से बाहर का मान रहे हैं। जबकि 1 प्रश्न में एरर पाया गया है। सब्जेक्ट एक्सपर्ट का अलग-अलग एनालिसिस है। दैनिक भास्कर पर विश्वसनीय आंसर की सोमवार के दिन पब्लिश की जाएगी।

ज्यादातर 65 फीसदी तक कट ऑफ जाने की उम्मीद जता रहे हैं, तो कुछ का मानना है कि यह इससे ज्यादा भी जा सकती है। सब्जेक्ट एक्सपर्ट्स ने भी हिन्दी का एक प्रश्न आउट ऑफ सिलेबस और लॉ का एक प्रश्न पुराने एक्ट से आने की बात कही है। साथ ही इसे हटाए जाने की संभावना भी जताई है। कुछ प्रश्न ऐसे थे जो सभी स्टूडेंट्स के लिए कन्फ्यूजिंग रहे।

2 प्रश्न हटाए जा सकते हैं, 65 फीसदी रहेगी कट ऑफ
सूर्यनगरी यूनिक लॉ क्लासेज जोधपुर की एक्सपर्ट उर्मिला राठी के मुताबिक प्री-पेपर में कट ऑफ 65 फीसदी तक जाने की संभावना है। हिन्दी में अलंकार वाला प्रश्न हटाया जा सकता है, क्योंकि यह आउट ऑफ सिलेबस है। जेजे एक्ट का सेक्शन 86 का एक प्रश्न पुराने जेजे एक्ट से है इसलिए वह भी हटाया जा सकता है। हिन्दी का पेपर सामान्य था, लेकिन अंग्रेजी का टफ रहा है। कुछ प्रश्न सभी स्टूडेंट्स के लिए कन्फ्यूज़िंग थे। कुछ सवाल उन धाराओं से थे, जो रिपील कर हटाई जा चुकी हैं।

पेपर का लेवल रहा अच्छा, 65 तक जा सकती है कट ऑफ
जयपुर के युवान लॉ इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर और सब्जेक्ट एक्सपर्ट डॉ. सुरेन्द्र जाखड़ के मुताबिक पेपर का लेवल अच्छा रहा है। सिविल, क्रिमिनल और हिंदी-अंग्रेजी चारों सब्जेक्ट्स से बढ़िया प्रश्न पूछे गए हैं। भारतीय संविधान, भारतीय दंड संहिता, दंड प्रक्रिया संहिता, सिविल प्रक्रिया संहिता और भारतीय साक्ष्य अधिनियम, इन 5 मेजर एक्ट में से ज्यादातर हायर लेवल के प्रश्न पूछे गए हैं। साथ ही माइनर एक्ट में से भी काफी ज्यादा प्रश्न पूछे गए हैं। ज्यादातर प्रश्नों का लेवल मीडियम से हाई रहा है। हिंदी और इंग्लिश का पेपर भी मीडियम रहा है। दो-तीन त्रुटियां या एरर पेपर में होने की सम्भावना है। पेपर की कट ऑफ 65 फीसदी तक जाने की संभावना है।

हिन्दी के एक प्रश्न में एरर,एक सिलेबस से बाहर

हिन्दी के सब्जेक्ट एक्सपर्ट बुद्धराम चौधरी ने दैनिक भास्कर से बातचीत में कहा कि हिन्दी के पेपर में आए प्रश्न में निषेध का संधि विच्छेद नि+सेध होगा। जबकि ऑप्शन में यही नहीं दिया गया है। उसमें नि के आगे हलंत लगा है। इसलिए सही उत्तर ही मौजूद नहीं है। वहीं अनुप्रास अलंकार का प्रश्न सिलेबस से बाहर का है। इन दोनों प्रश्नों पर आपत्ति उठेगी। तो इन्हें हटाना पड़ सकता है।

कैंडिडेट बोले 60 से ज्यादा जा सकती है कट ऑफ
वहीं RJS प्री एग्जाम देने जयपुर आए बाड़मेर निवासी कैंडिडेट वींजाराम ने दैनिक भास्कर को बताया कि प्रश्न पत्र में विशेष तौर पर सिविल के प्रश्न ज्यादा पूछे गए हैं। सिविल में राजस्थान के लोकल लॉ,इंटरप्रिटेशन के बारे में सवाल पूछे गए हैं। मेजर एक्ट्स में विधि की बारीकियों के प्रश्न पूछे गए हैं। केस लॉ से एक-दो ही प्रश्न आए। हिन्दी और कानून के सवाल में एक-एक त्रुटि यानी एरर लग रही है। कैंडिडेट के मुताबिक 60 से ज्यादा कट ऑफ जा सकती है।

यह भी पढ़ें-

​​​​VDO भर्ती परीक्षा की खास सीरीज आज से:एक्सपर्ट टिप्स से लेकर फ्री मॉडल टेस्ट सीरीज, मिलेंगे ग्राम विकास अधिकारी बनने के सक्सेस मंत्र

खबरें और भी हैं...