पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60425.43-0.54 %
  • NIFTY18012.5-0.56 %
  • GOLD(MCX 10 GM)47943-0.08 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61414-0.3 %

कोटा ओपन युनिवर्सिटी के स्टूडेंट दुविधा में:पीटीईटी, एस आई में निकले लेकिन ग्रेजुएशन अटकी; अभी प्रेक्टिकल बाकी

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर के रीजनल सेंटर पर ज्ञापन देते स्टूडेंट्स। - Money Bhaskar
जोधपुर के रीजनल सेंटर पर ज्ञापन देते स्टूडेंट्स।

कोटा ओपन युनिवर्सिटी के बैचलर स्टूडेंट्स की ग्रेजुएशन तीन साल में भी पूरी नहीं हो रही। इस बार सत्र में देरी लाखों स्टूडेंट्स के भविष्य बिगाड़ रही है। इधर स्टूडेंट्स पीटीईटी, एसआई आदि परीक्षाओं में तो निकल गए लेकिन ग्रेजुएशन में अटक गए। कोटा ओपन युनिवर्सिटी हर वष सितम्बर-अक्टूबर तक रिजल्ट डिक्लेयर कर देती है लेकिन इस बार तो स्टूडेंट्स के प्रेक्टिकल भी बाकी है।

स्टूडेंट्स ने ओपन युनिवर्सिटी के एकेडमिक शेड्यूल के चलते प्रतियोगिता परीक्षा दे दी उनका कहना है कि इंटरव्यू तक रिजल्ट आ जाएगा। लेकिन स्टूडेंट्स बीएड करने के लिए पीटीईटी पास कर चुके है काउंसलिंग में रिजल्ट के चलते अटक गए है। ऐसे में वे बीएड नहीं कर पाएंगे। इधर एस आई व आरएएस एग्जाम में भी कई स्टूडेंट निकल चुके है लेकिन ग्रेजुएशन पूरी नहीं होने पर कॉम्पिटिशन क्लियर कर के भी पीछे रह रहे है। बीए, बीएससी, एमए एमएसी सभी के रिजल्ट अटका हुआ है।

कोटा ओपन युनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स प्रायोगिक परीक्षा जल्द करवाने की गुहार लगा रहे है। बैचलर व मास्टर्स में देरी का प्रभाव उनके भविष्य पर पड़ रहा है। जोधपुर के स्टूडेंट्स ने युनिवर्सिटी के रीजनल सेंटर पर ज्ञापन दिया। डायरेक्टर से भी बात की इस पर डायरेक्टर का कहना है कि प्रेक्टिकल के लिए कैंपस नहीं मिल रहा।

हर वर्ष जून-जुलाई में प्रेक्टिकल हो जाता है । उस समय छुट्टियों के चलते कैंपस मिल जाता है। अभी कोई कैंपस उपलब्ध नहीं हो रहा ऐसे में प्रेक्टिकल अटका हुआ है। स्टूडेंट सुनील विश्नोई का कहना है कि उनका सत्र 2018 में शुरु हुआ 21 में पुरा हो जाना चाहिए लेकिन एग्जाम के अभाव में समय पर सत्र पूरा नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि दिसम्बर तक प्रायोगिक परीक्षा हो जाए तो स्टूडेंट्स का साल खराब नहीं होगा। स्टूडेंट्स का कहना है कि 2018 बेच के सभी युनिवर्सिटी ने रिजल्ट दे दिया है। सिर्फ ओपन वालों की बाकी है।