पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उस्ताद बिस्मिल्ला खान युवा पुरस्कार:जोधपुर के रंगकर्मी आशीष देव चारण को

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली स्तिथ राष्ट्रीय संगीत नाटक अकादमी द्वारा उस्ताद बिस्मिल्ला खान युवा पुरस्कार की घोषणा में राजस्थान से जोधपुर के रंगकर्मी आशीष देव चारण का नाम चयनित हुआ है। जिन्हें उस्ताद बिस्मिल्ला खान युवा पुरस्कार प्रदान किया जाएगा. चारण को यह पुरस्कार निर्देशन की श्रेणी में प्रदान किया जाएगा। कला के प्रोत्साहन के लिए प्रख्यात शहनाईवादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खान के नाम पर ये पुरस्कार 40 वर्ष से कम आयु के कलाकारों को दिए जाते हैं इस बार देश भर से 102 कलाकारों की सूची जारी हुआ है जो सभी अपने अपने कला क्षेत्र में लंबे समय से उत्कृष्ठ प्रदर्शन कर रहे है उन्हें इस सूची में शामिल किया गया है। संस्कृति मंत्रालय की शनिवार को जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार संवंधित वर्ष के लिए कलाकारों का चयन कला के अपने-अपने क्षेत्रों में इन कलाकारों के विशिष्ट प्रदर्शन और उनके द्वारा बनायी गयी अपनी विशेष पहचान के अधार पर किया गया है ।

40 वर्ष से कम आयु के कलाकारों को दिया जाता है पुरस्कार
अकादमी द्वारा 40 वर्ष से कम आयु के कलाकारों को दिए जाने वाले उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार की शुरुआत प्रदर्शन कला के विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट युवा प्रतिभाओं की पहचान करने और उन्हें प्रोत्साहित करने तथा उन्हें अपने जीवन की शुरुआत में ही राष्ट्रीय पहचान दिलाने के उद्देश्य से हुई थी। इसके पीछे मान्यता है कि इस पुरस्कार के लिए चयनित प्रतिभाएं अपने चुने हुए क्षेत्रों में अधिक प्रतिबद्धता एवं समर्पण भाव के साथ काम कर सकेंगी। युवा कलाकार प्रदर्शन कलाओं की संपूर्ण सरगम को कवर करते है

25,000 रुपये की नकद राशि प्रमाणपत्र

राष्ट्रीय संगीत नाटक अकादमी द्वारा विशेष समाहरो आयोजित कर चारण को उस्ताद बिस्मिल्लाह खान युवा पुरस्कार के रूप में 25,000 रुपये की नकद राशि प्रमाणपत्र प्रदान किये जाएंगे। जोधपुर की सबसे पुरानी रंगकर्म संस्थानों में से एक रम्मत रंगमंच संस्थान से जुड़े आशीष देव चारण विगत 17 वर्षों से हिंदी और राजस्थानी रंगमंच के क्षेत्र में बतौर अभिनेता और युवा निर्देशक निरंतर काम करते आ रहे है. बतौर निर्देशक चारण ने रियल विंग्स,बोल म्हारी मछली इतरो पाणि,man who want to fly, मेह राजा थे प्रजा, पतलू, उसने कहा था,शुद्धि, अभिशप्त सहित कई नाटकों का निर्देशन देश के प्रतिष्टित नाट्य समाहरो में किया है साथ ही बतौर अभिनेता देश के शीर्ष रंगमंच महोत्सव भारत रंग महोत्सव, थिएटर ओलम्पिक, रंग संगम, नार्थ ईस्ट थिएटर फेस्टिवल आदि में अभिनय का लोहा मनवाया है.