पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

3000 KG स्क्रैप से बना गांधी का स्टैच्यू:नोएडा के IPU कैंपस में स्थापित, 7 लाख 50 हजार में खरीदा

जोधपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जोधपुर में बना 24 फीट ऊंचा महात्मा गांधी का स्टैच्यु रविवार को नोएडा स्थित गुरु गोविंद सिंह इंद्र प्रस्थ यूनिवर्सिटी के कैंपस में लगाया गया। यह स्टैच्यु करीब साढे़ सात लाख में यूनिवर्सिटी ने खरीदा है।

जोधपुर के हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी अजय शर्मा की टीम ने 20 दिन में इस स्टैच्यू को स्क्रैप से तैयार किया था। कबाड़ का रिसाइकिल कर बनाया यह स्टैच्यू यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर को पसंद आया और उन्होंने जोधपुर फोन कर डील की।

जोधपुर के हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी अजय शर्मा की टीम ने 20 दिन में इस स्टैच्यू को स्क्रैप से तैयार किया था। कबाड़ का रिसाइकिल कर बनाया यह स्टैच्यू युनिवर्सिटी के वाइस चांसलर को पसंद आया और उन्होंने जोधपुर फोन कर डील की।
जोधपुर के हैंडीक्राफ्ट व्यवसायी अजय शर्मा की टीम ने 20 दिन में इस स्टैच्यू को स्क्रैप से तैयार किया था। कबाड़ का रिसाइकिल कर बनाया यह स्टैच्यू युनिवर्सिटी के वाइस चांसलर को पसंद आया और उन्होंने जोधपुर फोन कर डील की।

जोधपुर से 6 लोगों की टीम स्टैच्यू ले कर गई और वहां इंस्टॉल किया। बता दें कि स्क्रैप से तैयार इस स्टैच्यू की खबर भास्कर डिजिटल पर लगाई थी। इसी खबर को देखकर यूनिवर्सिटी के वीसी डॉक्टर महेश वर्मा ने अजय शर्मा को कॉन्टेक्ट किया और ऑर्डर बुक किया।

अजय शर्मा ने बताया कि कबाड़ को रिसाइकिल कर बनाए स्टैच्यू की वैल्यू अब लोगों को समझ आने लगी है। ऐसे ऑर्डर से पर्यावरण को संरक्षण मिलेगा।

यह गांधी प्रतिमा 3000 किलो स्क्रैप से बनी है। इसे नोएडा के आईपीयू कैंपस में स्थापित किया गया है।
यह गांधी प्रतिमा 3000 किलो स्क्रैप से बनी है। इसे नोएडा के आईपीयू कैंपस में स्थापित किया गया है।

बता दें कि लोहे की कील, नट बोल्ट, बेयरिंग, ड्रम, मशीन या पुराने वाहन का कोई भी कलपुर्जा, जो खराब हो चुका हो वो स्क्रैप आर्टिस्ट अजय के लिए कीमती बन जाता है। ऐसे ही कबाड़ से अजय कई हैरतअंगेज कलाकृति बनाकर दुनियाभर में मशहूर हो चुके हैं।

जोधपुर के रहने वाले अजय के कबाड़ से जुगाड़ बनाने के इस आइडिया से उनका नाम एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज हो चुका है। इससे पहले इंडिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में उनका नाम दर्ज हुआ था। कई नेश्नल अवार्ड भी ले चुके है।

गांधीजी की ऐसी मूर्ति पहली बार राजस्थान में बनी:कबाड़ से चुना आर्ट मटीरियल; कई रिकॉर्ड और करोड़ों का टर्नओवर