पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली चोरी पर जुर्माना नहीं भरा तो अब मिलेगी छूट:डिस्कॉम ने लागू की एमनेस्टी स्कीम, उपभोक्ता को मिलेगा फायदा

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिजली चोरी एवं दुरूपयोग के मामले में कई उपभोक्ताओं ने लंबे समय तक राशि जमा नहीं करवाई है। डिस्कॉम अब ऐसे मामलों का निस्तारण करने जा रहा है। इसके लिए लिए एमनेस्टी स्कीम लागू की है। जिसमें कुछ छूट उपभोक्ता को दी जाएगी । इससे उपभोक्ता को फायदा होगा और लंबित मामलों को भी निस्तारण होगा।

प्रबंध निदेशक प्रमोद टाक ने बताया कि यह योजना 31 दिसंबर तक भरे गए सतर्कता जांच प्रतिवेदनों पर 1 अप्रेल से लागू हो गई है। इसके तहत 31 दिसंबर 2021 तक बिजली चोरी के लिए भरी गई सतर्कता जांच प्रतिवेदनों पर लगाई गई जुर्माना राशि का निस्तारण के लिए एमनेस्टी योजना लागू की गई है। यह योजना सभी श्रेणी के उपभोक्ताओं के लिए लागू की गई है।

1 लाख से अधिक जुर्माना राशि पर 10 प्रतिशत जमा करवाने पर छूट मिलेगी
टाक ने बताया कि योजना के तहत 1 लाख रूपए तक के जुर्माना राशि पर सिविल लाइबिलिट या दुरूपयोग की राशि का 50 प्रतिशत व प्रशमन राशि शत-प्रतिशत भर कर प्रकरण का निस्तारण सहायक अभियंता स्तर पर ही किया जा सकेगा। उन्होनें बताया कि 1 लाख रूपए से अधिक की जुर्माना राशि के मामलों में सिविल लाइबिलिट या दुरूपयोग की राशि 50 प्रतिशत के अलावा 1 लाख से अधिक की राशि का 10 प्रतिशत राशि जमा कराने पर छूट का प्रावधान किया गया है। यह छूट उपभोक्ता और गैर उपभोक्ता दोनो के लिए लागू होगी। इस संबंध में छूट का अधिक से अधिक लाभ देने के लिए संबंधित उपभोक्ता व गैर उपभोक्ता को नोटिस जारी किये जा रहे हैं। उपभोक्ता स्वयं भी अपने सहायक अभियंता कार्यालय में सम्पर्क कर योजना का लाभ ले सकते हैं।

योजना 1 अप्रैल से 30 सितंबर तक
प्रबंध निदेशक ने बताया कि योजना 1 अप्रैल से 30 सितंबर 2022 तक रहेगी। विद्युत चोरी के मामलों में दर्ज मुकदमों से संबंधित व्यक्ति की ओर से जुर्माना राशि का इस छूट में पैसे जमा कराने के बाद विद्युत चोरी निरोधक थाने में सूचना देकर मुकदमें का निस्तारण किया जा सकेगा।

उपभोक्ता, गैर उपभोक्ता के लिए अलग अलग प्रावधान
इसके अतिरिक्त उपभोक्ता यह राशि 6 किस्तों में भी जमा करने का भी प्रावधान किया गया है, लेकिन गैर उपभोक्ता को एक मुश्त ही राशि जमा करानी होगी। विद्युत चोरी के मामलों में अदालतों में मामला दर्ज कराने वाले व्यक्ति को मुकदमा वापस लेने का शपथ पत्र पेश करने पर उन्हें ही इस योजना का लाभ मिल सकेगा। कोर्ट में चालान प्रस्तुत हो जाने की स्थिति में इस योजना का लाभ नहीं लिया जा सकेगा।