पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंतर्राष्ट्रीय इनवेस्टर मीट:जालोर, सिरोही के बाद जोधपुर में NRI के निवेश के लिए व्यवस्था जांचने पहुंचे राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त

जोधपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव। - Money Bhaskar
राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव।

24 व 25 जनवरी को जयपुर में इन्वेस्ट राजस्थान इंटरनेशनल इन्वेस्टर समिट के आयोजन होने जा रहा है। इसमें जोधपुर संभाग के एनआरआई को इनवाइट करने के लिए और जिला स्तर पर ऐसे समिट का आयोजन करने के लिए राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त ने संभागीय आयुक्त व कलेक्टर से मीटिंग की। राजस्थानी प्रवासियों व सरकार के बीच की कड़ी राजस्थान फाउंडेशन ने जिला कलेक्टर को जोधपुर संभाग के प्रवासियों की लिस्ट थमाई ताकि वे प्रवासियों को इस समिट में इनवाइट कर सके। साथ ही जोधपुर, जालोर, सिरोही व भीनमाल में प्रवासियों के इन्वेस्ट करने की व्यवस्था को जांचा।

पॉलिसी बदलने से इनवेस्टर्स अट्रैक्ट हो रहे है

राजस्थान फाउंडेशन के आयुक्त धीरज श्रीवास्तव ने बताया कि मुख्यमंत्री ने प्रवासियों द्वारा राजस्थान में निवेश को सरल करने के लिए नई योजनाएं लाने और सिंगल विंडो शुरु करना व कई तरह के कन्सेशन व कस्टमाईज पैकेज से निवेशकों को लुभाया है । इसी का परिणाम है कि दुबई एक्सपो में निवेशकों ने हिस्सा लिया। और 48 हजार करोड के एमओयू हुए है।

48 हजार करोड के एमओयू साइन हुए

राजस्थान फाउंडेशन ने तीन मंत्रियों के साथ मेहनत कर 48 हजार करोड के एमओयू साइन हुए है। अब यह एमओयू धरातल पर उतरे इस दिशा में तीव्र गति से काम किया जा रहा है। धीरज ने बताया कि इनवेस्टर समिट से पहले पेपर्स तैयार कर लिए जाए इस ओर काम किया जा रहा है। इसलिए जिलो के दौरे किए जा रहे है।

जिले के प्रवासी भी जुडे

उन्होने बताया कि जिला स्तर पर प्रवासियों को जोड़ा जा रहा है इसके लिए कलेक्टर से मीटिंग की गई। ताकि जिला स्तरीय प्रवासी जो भी निवेश करना चाहे उसे वैसी व्यवस्था मिले। इसके लिए जिला स्तर पर प्रवासियों की अलग से मीटिंग होगी। उसी की तैयारी के लिए राजस्थान फाउंडेशन जिला स्तरीय दौरे कर रहा है। उन्होने बताया कि जालोरी, भीनमाल जोधपुर के बाद उदयपुर में मीटिंग की गई।

जालोर, जोधपुर व उदयपुर में इनवेस्टर ने दिखाई रुचि

जालोर, जोधपुर व उदयपुर में इनवेस्टर ने ज्यादा रुचि दिखाई। उन्होंने बताया कि बॉर्डर डिस्ट्रिक्स के बैकवर्ड एरिया में डवलपमेंट किया जाए। जालोर-सिरोही, बांसवाड़ा डूंगरपुर इन क्षेत्रों में विशेष रुप से विकसित किया जाएगा। उन्होने बताया कि इनवेस्टर को इस क्षेत्र की उपयोगिता भी बताए। जालोर में मेडिसिटी बनाने का प्रयास किया जा रहा है। भीनमाल, सिरोही को प्राथमिकता दी जाएगी।