पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60967.050.24 %
  • NIFTY18125.40.06 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479130.65 %
  • SILVER(MCX 1 KG)654460.63 %

पवित्र महापर्व दसलक्षण:आत्मा की शुद्धि के लिए किए गए तप से ही होता है व्यक्ति का जीवन मंगलमय

सवाई माधोपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सकल दिगंबर जैन समाज के तत्वावधान एवं आर्यिका ससंघ के सानिध्य में मनाए गए संयम व आत्म शुद्धि के पवित्र महापर्व दसलक्षण के दौरान निर्विघ्न शुभ भावों के साथ धर्म प्रभावनापूर्वक 16, 10, 5 एवं 3 दिवसीय सोलहकारण, दसलक्षण, पंचमेरू व रत्नत्रय की तप-आराधना, व्रत एवं उपवास कर श्रावक-श्राविकाओं द्वारा रत्नत्रय के प्रति समर्पणता प्रकट की। समाज के प्रवक्ता प्रवीण जैन ने बताया कि उपवासकर्ताओं द्वारा नगर के जिनालयों में सोमवार को अष्ट द्रव्यों से निर्मल भक्ति पूर्वक जिनेंद्र भगवान की विशेष पूजन की, मंगल गीत गाए और हाथों में मेहंदी रचा कर नैमित्तिक क्रियाएं संपन्न की।

इस दौरान जिनालय तपस्वियों के रंग से सराबोर थे। इस मौके पर शहर के जैन मोहल्ला स्थित निर्यापक श्रमण मुनि सुधासागर संयम भवन में गणिनी आर्यिका संगममति माताजी ने सारगर्भित शब्दों में सात्विक तप को ही मोक्ष मार्ग में कार्यकारी बताते हुए कहा कि अपनी शक्ति अनुसार आत्मा की शुद्धि के लिए किए गए तप से व्यक्ति का जीवन मंगलमय बनता है। त्याग जीवन का अलंकार है।

मानव जीवन की शोभा त्याग-तपस्या से है। साथ ही समाज बंधुओं ने पर्व के दौरान तप-त्याग एवं समाज का मान बढ़ाने वाले 10 दिवसीय उपवासकर्ता कनिष्क जैन श्रीमाल, विमलेश जैन पुरवाल, 5 दिवसीय उपवासकर्ता डेजी जैन, 3 दिवसीय उपवासकर्ता डॉ. आशीष जैन श्रीमाल, रितिक जैन श्रीमाल, राशिका जैन, समता गोधा, माया जैन पल्लीवाल एवं विमला जैन के तप की अनुमोदना कर सुखसाता पूछते हुए जिनेंद्र देव से उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। प्रवक्ता प्रवीण जैन ने बताया कि पर्युषण पर्व का विधिवत समापन 21 सितंबर को क्षमावाणी पर्व मनाने के साथ होगा।

खबरें और भी हैं...