पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर:बहुत खूब...दीवारों से लेकर ऑडिटोरियम तक दिखेगी जैसलमेरी-मारवाड़ी-जयपुरी मेहराब-झरोखों की झलक

जयपुर10 महीने पहलेलेखक: महेश शर्मा
  • कॉपी लिंक
झालाना स्थित राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर। - Money Bhaskar
झालाना स्थित राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर।

जयपुर अब बड़े इंटरनेशनल इवेंट की मेजबानी के लिए तैयार हो रहा है। एक साथ 1800 लोगों तक के विभिन्न कल्चरल इवेंट, मेले, त्योहार, कांफ्रेंस आदि अब एक ही छत के नीचे हो सकेंगे। ऐसा पहली बार झालाना स्थित राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर (आरआईसी) में संभव होगा। वह भी रंगीलो राजस्थान के एंटीक इंटीरियर के साथ।

इसमें दीवारों पर जैसलमेरी पैटर्न दिखेगा तो कन्वेनशन हॉल और फंक्शनल एरिया में घुसते ही लोकप्रिय सिटी पैलेस, शहर के मुकुट हवामहल जैसा दर्शन। मिनी ऑडियोटिरम में मारवाड़ पैटर्न की झलक होगी। कांफ्रेंस हॉल में जोधपुर के मण्डोर उद्यान की पुरातन कला के मेहराब-स्मारकों की यादें ताजा होंगी। खास यह भी है कि लेक्चर हॉल और रेस्टोरेंट को मॉडर्न इंटीरियर दिया जाएगा।

इस खूबसूरती के लिए दिल खोल कर राशि खर्च की जा रही है। कार्यकारी एजेंसी जयपुर विकास प्राधिकरण ने नोएडा की एक फर्म को 41 करोड़ का वर्कऑर्डर सौंपा है। मुख्यमंत्री ने जेडीए को टास्क दिया है कि काम शीघ्र पूरा किया जाए। क्योंकि पिछली सरकार में उन्होंने ही इसे शुरू कराया था लेकिन सरकार बदली तो अटका, फिर आगे बढ़ा। अब जेडीसी गौरव गोयल पूरा कराने के लिए कमिटमेंट दिखा रहे हैं। सेंटर को चलाने के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी बनी हुई है।

टूरिज्म में नया ब्रांड; पहली बार 1800 लोगों के लिए ऑडिटोरियम, कन्वेंशन सेंटर, काॅन्फ्रेंस हॉल, ई-लाईब्रेरी

दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर की तर्ज पर गहलोत सरकार ने वर्ष 2009 में बुना था इसका ख्वाब
जयपुर में दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर की तर्ज पर राजस्थान इंटरनेशनल सेंटर तैयार हो रहा है। अगस्त 2009 में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इसका ख्वाब बुना था, जो इस कार्यकाल में पूरा होगा। इसके लिए 2013-14 में बजट घोषणा की गई, अप्रेल 2013 में योजना का शिलान्यास हुआ। बिल्डिंग वर्क पर 65 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं। अब 18 महीने में सजावटी कार्यों के साथ प्रोजेक्ट को उद्घाटन के लिए पूरा किया जाना है।

बिरला ऑडिटोरियम, जेईसीसी आदि से अलग यहां एक ही छत के नीचे ऑडिटोरियम, कन्वेंशन सेंटर, दो मिनी ऑडिटोरियम, एग्जीबिशन एरिया, ई-लाईब्रेरी, कांफ्रेंस-लेक्चर हॉल, रेस्टोरेंट आदि होंगे। जेडीए का दावा है कि सुविधाओं और खूबसूरती के लिहाज से प्रदेश में ऐसा कहीं नहीं है। इससे जयपुर में टूरिज्म को बल मिलेगा।

इतनी विविधता-क्षमता वाला पहला सेंटर
बिल्डिंग वर्क हो चुका है। अब राजस्थानी आर्किटेक्ट की ‌विभिन्न शैलियों को सम्मिलित करते हुए इंटीरियर का काम कर रहे हैं। इसके बाद शहर में एक ही जगह इतनी वैरायटी और क्षमता वाला यह पहला सेंटर होगा। - गौरव गोयल, कमिश्नर, जेडीए

खबरें और भी हैं...