पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना गाइडलाइन तोड़ने पर बेरोजगारों पर हुई FIR:बोले- राजनेताओं पर क्यों नहीं हो रही कार्रवाई, करेंगे विधानसभा घेराव

जयपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उपेन यादव 14 जनवरी को दिल्ली रोड़ स्थित बिलोंची गांव में गए थे। वहां करीब 40 45 युवा मौजूद थे। दौलतपुरा पुलिस ने उपेन यादव के खिलाफ महामारी के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

राजस्थान के बेरोजगार और सरकार में एक बार फिर विवाद शुरू हो गया है। इस बार दोनों के बीच शुरू हुआ विवाद किसी भर्ती परीक्षा को लेकर नहीं बल्कि कोरोना गाइडलाइन को लेकर है। ऐसे में बेरोजगारों ने जहां सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है वहीं पुलिस ने भी बेरोजगारों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कर ली है।

दरअसल, 14 जनवरी को राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ की ओर से आमेर के गांव में एक सभा का आयोजन किया गया था। पुलिस ने इसी सभा का हवाला देते हुए बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव पर कोरोना गाइडलाइन तोड़ने के मामले पर एफ आई आर दर्ज कर ली है। जिसके बाद पुलिस की इस कार्रवाई पर बेरोजगारों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव ने कहा कि एक और सरकार के मंत्री और विधायक भीड़ इकट्ठा कर रहे हैं। लेकिन उन पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही। उनके लिए शासन-प्रशासन आंखें मूंद बैठा है। लेकिन मैंने नियमों के तहत चुनिंदा लोगों की मौजूदगी में एक समारोह कर लिया। तो मुझ पर एफ आई आर दर्ज की गई है। जो पूरी तरह से तानाशाही पूर्ण कार्रवाई है। उपेन ने कहा कि सरकार ने यह कार्रवाई विधानसभा घेराव को रोकने के लिए शुरू की है। लेकिन राजस्थान का बेरोजगार रुकेगा नहीं और सरकार के खिलाफ अपनी मांगों को लेकर पुरजोर प्रदर्शन करेगा।