पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Rajasthan Police Headquarter Sercular That At The Beat Level, SHO Should Be Aware In Advance In Which Dalit Families There Is Marriage, Take Immediate Action Against Those Who Stop The Groom From Climbing The Horse

दूल्हे को घोड़ी चढ़ने से रोकने पर कार्रवाई के निर्देश:राजस्थान पुलिस मुख्यालय के निर्देश- बीट स्तर पर SHO पहले से जानकारी रखें, किन दलित परिवारों में शादी है

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजस्थान पुलिस मुख्यालय

दलित वर्ग के विवाह समारोह में बिंदोली रोकने, दूल्हे को घोड़ी पर नहीं बैठने देने, बारातियों से मारपीट करने और बैंड नहीं बजाने देने के मामलों को रोकने के लिए राजस्थान पुलिस मुख्यालय ने एक सर्कुलर जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि यदि किसी भी क्षेत्र में ऐसी घटना होती है तो इसकी जिम्मेदारी संबंधित क्षेत्र के पुलिस अफसरों की होगी। इस संबंध में एडीजी (क्राइम) रवि प्रकाश मेहरड़ा ने सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों, पुलिस कमिश्नर, रेंज आईजी व इंटेलीजेंस के अधिकारियों को पत्र लिखा है। जिसमें ऐसी घटनाओं को गंभीरता से लेकर रोकने के दिशा निर्देश दिए है।

जिसमें कहा गया है कि सभी थानाप्रभारी उनके थाना क्षेत्रों में ऐसे स्थानों को चिन्हित करें जहां पर दलित वर्ग एवं अन्य सामाजिक वर्गों में किसी प्रकार का तनाव या विवाद चल रहा है। यदि वहां पर पहले ऐसी कोई घटना हुई है तो विवाह समारोह, बारात या बिन्दोली के दौरान किसी प्रकार की घटना के होने का अंदेशा होने या कोई सूचना मिलने पर संदिग्धों को पाबंदी किया जाए।

बीट स्तर पर जानकारी रखनी होगी- किन किन दलित परिवारों में शादी का कार्यक्रम है
एडीजी मेहरड़ा ने सर्कुलर में निर्देश दिए है कि पुलिस थानों को बीट स्तर पर जानकारी जुटाकर रखनी होगी कि उनके क्षेत्र में आगामी दिनों में किन-किन दलित परिवारों के घर पर शादी का कार्यक्रम है। वहां दलित वर्ग की शादी के दिन सद्भावना के साथ बिन्दोली निकालने की व्यवस्था पुलिस को करनी होगी।

सभी बीट कांस्टेबल व बीट प्रभारी अपने क्षेत्रों के पंच, सरपंच, पार्षद, सी.एल.जी. सदस्य, पुलिस मित्र एवं सम्बन्धित समुदायों के सहयोग लेकर इस प्रकार की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए मीटिंग करेंगे। इस सामाजिक कुरीति को समाप्त करने और सभी समुदायों के नागरिकों को भी सम्बन्धित कानूनों के बारे में जानकारी देंगे।

कोई भी घटना होने पर तत्काल उच्चाधिकारियों को सूचना देनी होगी
सभी सी.एल.जी. सदस्य, पुलिस मित्र, सरपंच, पंच, पार्षद को बताया जाए कि उनके क्षेत्र में इस प्रकार की घटना होने पर तत्काल क्षेत्र के पुलिस व प्रशासनिक उच्चाधिकारियों को सूचना दी जाए। जिला कलेक्टर के साथ समन्वय करते हुए पटवारियों को भी जागरूक किया जाएगा कि वे तत्काल घटना होने पर पुलिस थाने में सूचना दें।

दलितों की बारात या बिंदोली में विवाद की सूचना पर पहुंचेंगे पुलिस उच्चाधिकारी

घटना के होने पर जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जैसे एसपी, एएसपी, सीओ मौके पर पहुंचेंगे। घटनास्थल का निरीक्षण कर कानूनी कार्रवाई करेंगे। तत्काल मुकदमा दर्ज कर दोषियों को गिरफ्तार करेंगे। इस प्रकार की घटनाओं की सूचना बिना देरी किए पुलिस मुख्यालय पर एडीजी, सिविल राईट्स एवं एंटी ह्यूमन ट्रेफिकिंग सेल के ऑफिस में देंगे।

खबरें और भी हैं...