पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मांग:नारौली कस्बे में कृषि उपज मंडी की मांग नहीं हुई पूरी

हिन्डौन4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उपखंड के व्यापारिक प्रधान कस्बा नारौली डांग में करीब डेढ़ दशक से कृषि उपज मंडी खोले जाने की मांग अभी तक पूरी नही हो पाई है। जिससे किसानों को उनकी फसल का वाजिब दाम नहीं मिल रहा है। इससे न केवल व्यापारिक विकास कार्य अवरूद्ध पड़े हुए हैं और किसानों को परेशानी हो रही है। उपखंड सपोटरा की कृषि उपज मंडी हिंडौन सिटी लगती है,लेकिन यहां के किसान नजदीक के कारण अपनी फसल को गंगापुर सिटी बेचने के लिए ले जाते है। इस फसल से जो आय होती है वह आय विकास के नाम पर सपोटरा क्षेत्र के किसानों को नहीं मिलती है। कई वर्ष से क्षेत्र के किसानों की ओर यहां कृषि उपज मंडी खोले जाने की मांग की जाती रही है। लेकिन जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा के चलते अभी तक मंडी नहीं खुलने से किसानों में रोष व्याप्त है।

भूमि आंवटन की कार्यवाही भी विचाराधीन- नारौली कस्बे में कृषि उपज मंडी के लिए खसरा नं.1595 तथा 1600 गै.मु.चारागाह में से 20 बीघा भूमि प्रस्तावित कर निशुल्क आवंटन की कार्यवाही भी विचाराधीन है।नारौली डांग से मात्र 3 किलोमीटर दूर नारायणपुर टटवाड़ा रेलवे स्टेशन है। यहां मंडी खुलने से रेलवे को भी राजस्व आय होगी।किसान रामप्रसाद मीना,रामलाल बैरवा, सुमेर मीना,हरीराम मीना व मंगल मीना ने बताया कि कस्बे में कृषि उपज मंडी खुलने से क्षेत्र में नए व्यापारियों के लिए रास्ते खुलने के साथ ही उन्हें उपज को बेचने के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा।

खबरें और भी हैं...