पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

यूथ नहीं रिटायर्ड टीचर पढ़ायेंगे:सरकारी हिन्दी माध्यम स्कूल्स में रिटायर्ड टीचर्स पढ़ाएंगे, नहीं मिलने पर यूथ बेरोजगारों को अवसर

बीकानेर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेशभर में सरकारी स्कूल्स व कॉलेज में टीचर्स के रिक्त पड़े पदों को भरने के लिए इस बार भी गेस्ट फेकल्टी का सहारा लेना पड़ेगा। अंग्रेजी माध्यम स्कूल्स में गेस्ट फेकल्टी से टीचर लेने के आदेश पहले ही जारी हो चुके हैं, वहीं हिन्दी माध्यम स्कूल्स में भी इन्हीं टीचर्स के भरोसे पढ़ाई होने वाली है।

शिक्षा संबल योजना के तहत विभाग रिटायर्ड टीचर्स को प्राथमिकता देते हुए हिन्दी माध्यम स्कूल्स में पढ़ाने का अवसर देगा। अगर रिटायर्ड टीचर्स नहीं मिले तो प्राइवेट टीचर्स को भी पढ़ाने का अवसर मिल सकता है। फिलहाल विभाग ने सिर्फ रिटायर्ड टीचर्स के लिए ही आदेश जारी किए हैं, जबकि गेस्ट फेकल्टी में बेरोजगार टीचर्स को अवसर देने का प्रस्ताव राज्य सरकार के पास विचाराधीन है।

ये रहेगा पेमेंट

ग्रेड थर्ड को क्लास एक से आठ तक पढ़ाने के लिए प्रति घंटा तीन सौ रुपए दिए जाएंगे और अधिकतम 21 हजार रुपए का भुगतान होगा। इसी तरह ग्रेड सेकेंड को क्लास नौ व दस को पढ़ाने के लिए साढ़े तीन सौ रुपए प्रति घंटा के हिसाब से अधिकतम 25 हजार रुपए, ग्रेड फर्स्ट में चार सौ रुपए प्रति घंटा और अधिकतम तीस हजार रुपए का भुगतान किया जाएगा। फिजिकल टीचर्स और प्रयोगशाला सहायक को भी तीन सौ रुपए प्रति घंटा और अधिकतम 21 हजार रुपए का भुगतान हो सकेगा।

ऐसे होगा चयन

जिन स्कूल्स में टीचर्स के पद रिक्त है, वहां के लिए गेस्ट फेकल्टी के टीचर रखे जाएंगे। अगर पद रिक्त नहीं है तो प्रिंसिपल नया पद नहीं बना सकेगा। पदों का आवंटन आरक्षण नियमों के तहत होगा। अगर आरक्षित पद पर कोई अभ्यर्थी नहीं आता है तो सामान्य को अवसर दिया जा सकेगा।