पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भरतपुर के लोग दे रहे कोरोना को न्यौता:राजा खेमकरण की जयंती और मंदिरों में गाइडलाइन हुई साइडलाइन, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग भूले लोग

भरतपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजा खेमकरण की जयंती पर बिना मास्क के रैली में चलते युवा।

भरतपुर में शुक्रवार को मकर संक्रांति और राजा खेमकरण सिंह सोगरिया की जयंती धूम-धाम के साथ मनाई गई। मंदिरों में श्रदालुओं की भीड़ दिखाई दी जिन्होंने गरीब लोगों को दान पुण्य किया। साथ ही राजा खेमकरण की जयंती पर एक यज्ञ का आयोजन किया गया जिसमें सैकड़ों लोगों ने भाग लिया। यज्ञ के बाद एक यात्रा निकाली गई जिसमें युवा बाइक और पैदल निकले, लेकिन सबसे बड़ी बात रही की किसी के चेहरे पर मास्क दिखाई नहीं दिया। मंदिर और राजा खेमकरण की जयंती के कार्यक्रम में लोगों ने जमकर कोरोना गाइडलाइन धज्जियां उड़ाईं। मौके पर पुलिस के मौजूद होने के बाद भी किसी भी व्यक्ति को मास्क के लिए नहीं टोका गया। जबकि धार्मिक कार्यक्रमों में राज्य सरकार ने इतने लोगों के इकट्ठे होने पर रोक लगा रखी है।

भरतपुर जिले में इस समय कोरोना के 1642 एक्टिव केस हैं। रोजाना कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। अभी तक जिले में 266 बच्चे कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। कोरोना से बचाव को लेकर राज्य सरकार और प्रशासन लगातार लोगों से समझाने में लगा है, लेकिन लोग कोरोना की तरफ से पूरी तरह लापरवाह नजर आ रहे हैं। इतनी संख्या में बिना मास्क के लोग धार्मिक कार्यक्रमों में शामिल हो रहे हैं। खेमकरण की जयंती पर हुए कार्यक्रम में कई जनप्रतिनिधि भी पहुंच रहे हैं जो की राजा खेमकरण की जयंती पर होने वाले यज्ञ में शामिल हो रहे हैं।

खबरें और भी हैं...