पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एक ही परिवार के 5 युवक डूबे:आगरा के युवक दुर्गा विसर्जन करने के लिए पार्वती नदी में उतरे थे, बैंलेस बिगड़ने से हादसा

धौलपुर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे के बाद युवकों के साथ आए ग्रामीण रोते हुए।

धौलपुर के बसेड़ी थाना क्षेत्र में पार्वती नदी में डूबने से एक ही परिवार के 5 युवकों की मौत हो गई। मृतकों में दो सगे भाई भी हैं। पांचों आगरा के भवनपुरा गांव के रहने वाले थे। शुक्रवार को मां दुर्गा की प्रतिमा का विसर्जन करने आए थे। करीब 3 घंटे चले रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद शवों को बाहर निकाला गया। आगरा पुलिस और परिजनों के आने के बाद शव सौंपे गए।

एसपी केसर सिंह शेखावत ने बताया कि हादसे में राजेश पुत्र कालीचरण (22), रणवीर पुत्र कालीचरण (24), सत्यपाल पुत्र परीक्षित, संजय पुत्र घनश्याम और कृष्णा (22) पुत्र राजवीर की मौत हो गई। मृतकों में राजेश और रणवीर दोनों सगे भाई थे। मृतक राजेश की एक महीने बाद शादी थी।

मौके पर मौजूद पुलिस और ग्रामीण।
मौके पर मौजूद पुलिस और ग्रामीण।

बैंलेस बिगड़ने पर डूबे
एसपी ने बताया कि शुक्रवार दशहरे पर चंबल और पार्वती नदी पर मां दुर्गा की मूर्ति विसर्जित करने के लिए लोग आ रहे थे। मौके पर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया था। इस दौरान बॉर्डर पर जगनेर थाना क्षेत्र के भुवनपुरा गांव के लोग पार्वती नदी पर आए। गांव के चार युवक माता की मूर्ति लेकर पानी में उतर गए। मूर्ति का वजन ज्यादा होने के कारण चारों का बैंलेस बिगड़ गया। पैर फिसला और डूब गए।

3 घंटे के सर्च ऑपरेशन के बाद शव निकाले
युवकों के साथ आए गांव वालों ने चारों को डूबता देख शोर मचाया। गश्त कर रहे पुलिस दल ने गोताखोरों को बुलाया। पहले राजेश और सत्यपाल के शव बाहर निकाले गए। इसके बाद रणवीर, घनश्याम और कृष्णा की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया गया। करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद दोनों के शव भी बाहर निकाले गए। मृतकों की पहचान उनके साथ आए गांव वालों ने की। धौलपुर पुलिस ने आगरा पुलिस को सूचना दी है।

एक महीने बाद थी राजेश की शादी
यूपी से परिजनों के आने के बाद पोस्टमॉर्टम करवाकर शव परिजनों को सौंपे गए। मृतक राजेश की एक महीने बाद शादी थी। पिता कालीचरण ने बताया कि घर में शादी की तैयारियां चल रही थी। राजेश और रणवीर से पहले एक बेटे की बीमारी से मौत हो गई थी। पांच में से तीन बेटों की मौत से परिवार टूट गया है। मृतकों के भाई हेमराज ने बताया कि मृतक सत्य प्रकाश पुत्र परीक्षित चचेरा भाई था। तीनों जगनेर में सिलाई की दुकान पर काम करते थे। संजय और कृष्णा भी परिवार में ही थे।
कंटेंट:- मोनू अग्रवाल, जगनेर

खबरें और भी हैं...