पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मम्मी-पापा, मैं मरना नहीं चाहती-मुझे माफ करना:गैंगरेप से आहत बेटी का सुसाइड नोट-मेरी गलती नहीं थी, मेरी चीजें किसी को मत देना

बाड़मेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

एक नाबालिग ने गैंगरेप से आहत होकर रविवार को सुसाइड कर ली। घटना बाड़मेर की है। दुष्कर्म के आरोपी 16 साल की नाबालिग को लगातार बदनाम करने की धमकी दे रहे थे। इससे आहत बच्ची ने आत्महत्या कर ली। लड़की ने सुसाइड नोट में लिखा, 'मम्मी-पापा मुझे माफ कर दो। मेरी कोई गलती नहीं है। मेरे सपने अधूरे हैं। मेरी सारी चीजों को संभाल कर रखना।' नाबालिग ने अपनी मौत का कारण एक युवक और उसके नाबालिग साथी को बताया है। पुलिस ने सुसाइड नोट के आधार पर जांच कर रही है।

असल में, गैंगरेप से आहत नाबालिग ने फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी। घरवाले अंतिम संस्कार की तैयारी कर रहे थे, तभी बच्ची के कपड़ों से सुसाइड नोट मिला। इसमें उसने एक युवक और उसके नाबालिग साथी पर रेप करने का आरोप लगाया है। सुसाइड नोट मिलने के बाद परिजनों ने सोमवार को महिला थाने में दुष्कर्म का मामला दर्ज कराया। पुलिस ने पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

सुसाइड नोट में लिखा- 'मैं मरना नहीं चाहती, लेकिन क्या करूं...'
पुलिस ने बताया कि एक पेज का सुसाइड नोट मिला है। इसमें लिखा है, 'मैं मरने जा रही हूं, मेरी सारी चीजें किसी को मत देना। मैं मरना नहीं चाहती हूं, लेकिन क्या करूं। मेरे पापा को लोग सुनाएंगे। मेरे सपने अभी अधूरे है। महेंद्र व उसके नाबालिग साथी ने मुझे धोखे से बाहर बुलाया। मेरी बदनामी हो गई। मेरे मम्मी व पापा को कोई सुनाना मत। पापा मुझे माफ कर देना। मेरे कपड़े और सारी चीजें सही जगह पर रख देना। मैंने कुछ गलत नहीं किया है।' फिर एक बार लिखा, 'पापा-मम्मी मुझे माफ करना आपकी बेटी। मेरे मरने का कारण है महेंद्र व उसका नाबालिग साथी।'

पुलिस ने बताया कि नाबालिग के परिजनों ने रिपोर्ट दी है कि उनकी बेटी के साथ ​​​ महेंद्र सिंह (24) और एक नाबालिग ने रविवार को रेप किया। किसी को बताने पर समाज में बदनाम करने की धमकी दी। इससे परेशान नाबालिग ने पंखे से फंदा लगाकर सुसाइड कर ली। मामले की जांच महिला सेल के ASP हजारीराम कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...