पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कॉन्स्टेबल की पत्नी पहुंची थाने, मारपीट-गर्भपात का आरोप:बोली- प्रेग्नेंट होते ही करवा देता है अबॉर्शन, 4 महीने में दूसरा मुकदमा

अजमेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डमी इमेज - Money Bhaskar
डमी इमेज

अजमेर में कॉन्स्टेबल पर दुष्कर्म के आरोप के बाद उसकी पत्नी ने मारपीट, गाली गलौज के साथ गर्भपात करवाने का मुकदमा दर्ज करवाया है। सिविल लाइंस थाना पुलिस ने पीड़िता की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। करीब 4 महीने पूर्व भी पीड़िता ने कॉन्स्टेबल पर शादी का झांसा देकर लिव इन रिलेशन में रखकर दुष्कर्म करने का मुकदमा दर्ज करवाया था।

सिविल लाइंस थाना पुलिस के अनुसार थाना क्षेत्र के पीड़िता ने थाने पर उपस्थित होकर अपने कॉन्स्टेबल पति पर आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज करवाया है। रिपोर्ट के अनुसार उसकी शादी 6 महीने पहले हुई थी। पति पुलिस लाइन में कॉन्स्टेबल के पद पर तैनात है। पीड़िता का आरोप है कि शादी के बाद से ही उसका पति मारपीट और गाली गलौज करता है। उसे खाने-पीने का खर्चा भी नहीं देता। पीड़िता ने बताया कि वह जब भी गर्भवती होती है उसका अबॉर्शन करवा देता है। पीड़िता का आरोप है कि उसका पति उसके बड़े भाई की पत्नी के कहने पर उसके साथ मारपीट करता है।

खुद को बचाने के लिए की शादी
पीड़िता ने शिकायत देकर बताया कि उसने कॉन्स्टेबल पर दुष्कर्म करने का मुकदमा दर्ज करवाया था। लेकिन तब उसने अपनी गलती मानते हुए शादी कर ली थी। लेकिन बाद में पता चला कि पति ने सिर्फ खुद को बचाने के लिए उससे शादी की है। उसके बाद से ही वह उसके साथ मारपीट कर रहा है।

फेसबुक से हुई थी दोस्ती
पूर्व में दी शिकायत में पीड़िता ने बताया था कि कॉन्स्टेबल से उसकी दोस्ती फेसबुक के जरिए हुई थी। दोनों की बातचीत होने लगी तो कॉन्स्टेबल ने उसे जोर देकर अपने पास बुला लिया। इसके बाद 7 महीने तक दोनों लिव-इन में रह रहे थे। कॉन्स्टेबल शादी का झांसा देकर रेप करने लगा। महिला का आरोप था कि वह दो बार प्रेग्नेंट भी हुई थी। लेकिन जब आरोपी कॉन्स्टेबल को पता चला तो उसने गर्भपात करवा दिया।

फोटो वायरल करने का भी आरोप
7 महीने लिवइन में रहने के बाद जब उसने शादी के लिए कहा तो है मारपीट करने लगा। बात-बात पर धमकाता था कि अगर इस बारे में किसी को बताया तो फोटो वीडियो वायरल कर दूंगा। पूर्व में इस मामले की जांच कोतवाली के तत्कालीन थानाधिकारी शमशेर खां को सौंपी गई थी।