पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Rajasthan
  • Ajmer
  • Boycotted The Work And Raised Slogans; Angry Over Not Getting Salary, Allegation Of Misbehavior Against The Deputy Registrar, The Students Returned

हड़ताल पर इंजीनियरिंग कॉलेज स्टाफ:कार्य बहिष्कार कर नारेबाजी की, तन्ख्वाह नहीं मिलने से है नाराज, उप कुलसचिव पर लगाए दुर्व्यवहार का आरोप

अजमेर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विरोध प्रदर्शन।

अक्टूबर माह का वेतन नहीं मिलने के चलते इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टाफ ने कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया है। साथ ही उप कुलसचिव पर दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए उनके निलम्बन की मांग की है। राजस्थान अभियांत्रिकी महाविद्यालय शिक्षक संघ (रेक्टा) के नेतृत्व में कर्मचारियों ने मांगे पूरी नहीं होने तक आन्दोलन जारी रखने की बात कही है। वहीं इस दौरान कॉलेज पहुंचे स्टूडेन्ट्स वापस लौट गए।

राजस्थान अभियांत्रिकी महाविद्यालय शिक्षक संघ के प्रदेशाध्यक्ष चम्पालाल कुमावत ने ज्ञापन में बताया कि महिला इंजिनियरिंग कॉलेज, अजमेर में 2.5 करोड़ सोसायटी फंड और 4.5 करोड़ कॉलेज हॉस्टल सद में होने के बावजूद महाविद्यालय कार्मिकों को अक्टूम्बर माह का वेतन नहीं दिया गया। इस पर सभी टीचर्स 27 नवम्बर को प्राचार्य से चर्चा करने गए। इस बैठक में उपकुलसचिव पुष्पेंद्र कुमार सिंह की ओर से राजस्थान अभियांत्रिकी महाविद्यालय शिक्षक संघ (RECTA) पर कई तरह की ओछी टिप्पणियों के साथ निराधार आरोप लगाए। कुल-सचिव की महाविद्यालय के शिक्षकों के प्रति हमेशा से ही दुर्भावना पूर्ण एवं अपमानित व्यवहार रहा है जिसे लेकर रोष है। अत: शिक्षकों ने उपकुलसचिव के निलम्बन सहित अपनी विभिन्न मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार शुरू किया। जब तक उनकी मांगे नहीं मानी जाएगी, समस्त स्टाफ आन्दोलन जारी रखेगा।

बाहर निकलते स्टूडेन्ट्स।
बाहर निकलते स्टूडेन्ट्स।

यह है मुख्य मांगे

  • उप-कुलसचिव पुष्पेंद्र कुमार सिंह काे निलंबित किया जाए।
  • अक्टम्बर माह का वेतन तुरंत प्रभाव से दिया जाए।
  • पिछले छह माह में कराए गए कार्यो की जांच की जाए।
  • अन्य कार्यों पर रोक लगाई जाए।

उपकुलसचिव ने कहा-आरोप निराधार

इस सम्बन्ध में बात करने पर उपकुलसचिव पुष्पेन्द्रकुमार सिंह ने कहा कि दुर्व्यवहार को लेकर लगाए गए आरोप निराधार है। जिस समय दुव्यवहार करने का आरोप लगा रहे है, वहां उच्च अधिकारी भी मौजूद थे। तनख्वाह का सवाल है तो यह तो नियमानुसार ही होगा। किसी अन्य मद का पैसा वेतन पर खर्च करने के लिए मैं अधीकृत नहीं हूं।

खाली पडे़ कक्षा कक्ष।
खाली पडे़ कक्षा कक्ष।

(फोटो- मोहन ठाड़ा)