पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Business News
  • Local
  • Punjab
  • Sangrur
  • 172 Employees Of Dosage And Supply Department Went On Mass Leave, The Work Of Distribution Of One Lakh 80 Thousand Quintals Of Wheat Came To A Standstill In The District.

सामूहिक छुट्टी:खुराक व सप्लाई विभाग के 172 कर्मचारी सामूहिक छुट्टी पर गए, जिले में एक लाख 80 हजार क्विंटल गेहूं के वितरण का काम पड़ा ठप

संगरूरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लुधियाना में विजिलेंस के खुराक व सप्लाई विभाग के मुलाजिमों के विरुद्ध दर्ज किए मामले से खफा है स्टाफ

लुधियाना में विजिलेंस द्वारा खुराक व सप्लाई विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों के विरुद्ध दर्ज किए गए मामले से खफा खुराक व सप्लाई विभाग के 172 कर्मचारी सामूहिक छुट्टी पर चले गए हैं। इनमें 120 विभाग के इंस्पेक्टर, 40 दफ्तरी स्टाफ और 12 अधिकारी शामिल हैं। मौजूदा समय में विभाग में क्लास फोर कर्मचारी ही ड‌्यूटी पर शेष रह गया है। ऐसे में वीरवार विभाग के दफ्तर में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा था। स्टाफ नहीं होने के कारण लोग खाली हाथ वापस जाने को मजबूर थे। कर्मचारियों का दावा है कि सामूहिक छुट्टी पर जाने से डिपाे को सप्लाई होने वाला गेहूं अटक गया है।

इस संबंधी इंस्पेक्टर फूड सप्लाई यूनियन संगरूर के प्रधान पंकज गर्ग और वरिंदर सिंह ने बताया कि विजिलेंस ब्यूरो लुधियाना ने 16 अगस्त को खरीद एजेंसियों के कर्मचारियों व अधिकारियों के विरुद्ध शिकायत के आधार पर बिना जांच पड़ताल के ही मामला दर्ज कर दिया है। पहले भी बेवजह विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों को तंग परेशान किया जा रहा है। पंजाब भर में मंडियों के टेंडरों की झूठी शिकायतों के आधार पर अधिकारियों और कर्मचारियों को जांच के घेरे में लाया जा रहा है। शिकायतों की चल रही जांच के चलते अधिकारी व कर्मचारियों का काम प्रभावित हो रहा है। सरकार के इस रवैये को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।

नतीजन वीरवार को कर्मचारियों व अधिकारियों के समर्थन में समूह स्टाफ खुराक व सप्लाई विभाग के अधिकारी व कर्मचारियों ने सामूहिक छुट्टी पर जाने का फैसला किया है। स्टाफ का दावा है कि वर्तमान समय में 2 रुपए प्रति किलो गेहूं के वितरण का काम चल रहा है। फिलहाल 10 प्रतिशत गेहूं की डिपुओं को दी गई थी। जिले भर में 1 लाख 80 हजार क्विंटल गेहूं के वितरण का काम ठप पड़ चुका है। शैलरों की अलॉटमेंट और रजिस्ट्रेशन और धान की खरीद की तैयारियों का काम भी ठप पड़ चुका है।

खबरें और भी हैं...