पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61308.910.14 %
  • NIFTY18308.10.29 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479960.3 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61497-0.1 %

राेष मार्च:हड़ताली एनएचएम कर्मियों की रेगुलर की मांग, राेड जाम कर फूंका पुतला, ज्याेति स्वरूप चाैक पर प्रदर्शन

फतेहगढ़ साहिबएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिविल अस्पताल से निकाला राेष मार्च
  • जिलाध्यक्ष हरपाल सिंह ने कहा कि वह 14 साल से भी अधिक समय से विभाग में सेवाएं निभाते आ रहे

नेशनल हेल्थ मिशन के तहत कार्यरत कर्मियों ने रेगुलर किए जाने की मांग को लेकर प्रदेश यूनियन की ओर से संघर्ष को तेज करने के एलान पर जोरदार प्रदर्शन किया। उन्होंने सिविल अस्पताल से रोष मार्च निकाला और ज्योति स्वरूप चौक पर जाम लगाकर यातायात ठप किया। उन्होंने पंजाब सरकार का पुतला फूंका। जिलाध्यक्ष हरपाल सिंह ने कहा कि वह 14 साल से भी अधिक समय से विभाग में सेवाएं निभाते आ रहे हैं। अभी तक उन्हें रेगुलर नहीं किया गया। जो वेतन उन्हें मिलता है वह कम है।

पड़ाेसी राज्य राजस्थान, हिमाचल सहित आंध्र, तामिलनाडु की सरकारों ने नियम चेंज करते हुए अपने कर्मियों को रेगुलर किया। कोविड के दौरान उन्होंने पूरी निष्ठा से अपनी सेवाएं निभाईं। कई कर्मी उस दौरान मारे गए थे। सरकार ने जिन मुलाजिमों को रेगुलर करने का एलान किया है उनमें वह शामिल नहीं है। सरकार से मांग की है कि जब तक उन्हें रेगुलर नहीं किया जाता, उन्हें रेगुलर कर्मियों की तर्ज पर पूरा वेतन व सुविधाएं दी जाएं। यहां जितेन्द्र सिंह, स्वर्णजीत सिंह, नवाब, हरदीप सिंह, सुनील कुमार, विक्की वर्मा, मनीश कुमार, सिमरनजीत कौर, मनप्रीत कौर, नरेन्द्र कौर, रविन्द्र कौर मौजूद रहे।

लगातार की जा रही रेगुलर की मांग को लेकर एनएचएम कर्मियों ने मंगलवार काे ज्योति स्वरूप चौक में लगभग पौने दो घंटों तक सड़क जामकर प्रदर्शन किया। 16 नवंबर से लगातार हड़ताल कर रहे कर्मियों मेें न तो लोगों की सेहत की कोई परवाह दिखाई दे रही है। न उनके द्वारा जाम में फंसे लोगों की। पुलिस ने जाम में फंसे वाहनों को दूसरे रास्तों से निकाला। मई की शुरुआत में एनएचएम कर्मियों ने रोष प्रदर्शन तेज किया। 10 मई 2021 को तत्कालीन सेहत मंत्री बलवीर सिंह सिद्धू के सिविल अस्पताल का निरीक्षण दौरान। हड़ताली कर्मियों ने कहा था कि उनकी कई मांगें सरकार ने मानी हैं, वेतन बढ़ोतरी की है। उन्हें कोरोना इंसेंटिव दिया जा रहा है। फिर भी वह हड़ताल पर हैं जो जायज नहीं है। उन्होंने कहा था कि अगर हड़ताली कर्मी 11 मई तक ड्यूटी पर न लौटे तो सरकार एक्शन लेगी। उसके बाद एनएचएम कर्मियों ने हड़ताल छोड़ दी थी।

खबरें और भी हैं...