पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंजाब CM को काले मास्क से 'खतरा':पुलिस ने उतरवाए 15 अगस्त के प्रोग्राम में पहुंचे बच्चों के मास्क, सरकार ने ही 2 दिन पहले किया अनिवार्य

लुधियाना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को काले मास्क से खतरा है। कम से कम पंजाब पुलिस का तो यही मानना है। इसलिए पुलिस अधिकारियों ने सोमवार को 15 अगस्त पर लुधियाना में आयोजित राज्यस्तरीय प्रोग्राम में पहुंचे उन सभी बच्चों को मास्क उतारने पर मजबूर कर दिया जो गलती से काले मास्क लगा आए थे। इस राज्यस्तरीय प्रोग्राम में CM भगवंत मान ने झंडा फहराया। मास्क उतरवाने के बाद पुलिस अफसरों ने इन बच्चों को दूसरे मास्क देना भी जरूरी नहीं समझा।

पंजाब सरकार दो दिन पहले ही आदेश जारी कर राज्य के स्कूलों, कॉलेजों, मॉल्स और सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर चुकी है। प्रदेश सरकार ने यह फैसला कोरोना के बढ़ते केसों के मद्देनजर लिया मगर पंजाब पुलिस के अफसरों ने बच्चों के मास्क उतरवाकर एक तरह से सरकार के इस आदेश का ही उल्लंघन कर डाला। वह भी मुख्यमंत्री की मौजूदगी वाले प्रोग्राम में।

दरअसल देश के 75वें आजादी दिवस पर लुधियाना के गुरुनानक स्टेडियम में आयोजित प्रोग्राम में ध्वजारोहण करने मुख्यमंत्री भगवंत सिंह मान की सिक्योरिटी को डर सता रहा था कि कहीं CM को कोई काला झंडा या काला कपड़ा न दिखा दे। इस वजह से उसने किसी को स्टेडियम में काले कपड़े के साथ नहीं जाने दिया। मगर पुलिस अफसर बच्चों और अन्य लोगों में फर्क करना भूल गए। कुछ बच्चों ने धूप से बचने के लिए काले रंग की टोपियां पहनी थीं। पुलिस अफसरों ने उन्हें भी उतरवा दिया।

स्टेडियम के गेट पर पड़े बच्चों के उतरवाए गए मास्क।
स्टेडियम के गेट पर पड़े बच्चों के उतरवाए गए मास्क।

आम आदमी पार्टी और उसके नेता भगवंत मान खुद को दूसरी रिवायती पार्टियों और नेताओं से अलग बताते रहे हैं मगर उनकी सरकार में भी पुलिस-प्रशासन के काम करने के तौर-तरीके पुराने वाले ही हैं। मुख्यमंत्री की सिक्योरिटी में तैनात अधिकारी और लुधियाना पुलिस के मुलाजिम इतने बौखला गए कि वह कोरोना गाइडलाइन को ही भूल गए। पुलिसवाले खुद सरकार के निर्देशों का उल्लंघन करते रहे। स्टेडियम में परेड में शामिल होने पहुंचे बच्चों के मास्क उतरवाकर एक तरह से उन्हें खतरे की ओर से धकेला गया।

नॉर्मल मास्क भी नहीं थे पुलिस के पास

CM सिक्योरिटी और पुलिस प्रशासन की प्लानिंग का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि उन्होंने स्टेडियम में किसी को काला कपड़ा लेकर न जाने देने की योजना तो बना ली लेकिन इस बार पर गौर नहीं किया कि अगर कोई बच्चा काला मास्क लगाकर आ गया तो क्या करेंगे।

पुलिस अफसरों ने अगर सही तरह से प्लानिंग करते हुए स्टेडियम के एंट्री गेटों पर बैकअप के तौर पर डिस्पोजेबल 3 प्लाई सर्जिकल मास्क रखवाए होते तो इस स्थिति से बचा जा सकता था। उस स्थिति में जो बच्चे काले मास्क लगाकर आए, उन्हें यह सर्जिकल मास्क दिए जा सकते थे। ऐसे में बच्चों की जान से खिलवाड़ नहीं होता।

लुधियाना में कोरोना के रोज 50 केस

लुधियाना में पिछले 15 दिनों से कोरोना के रोज 50 से अधिक मरीज आ रहे हैं। इसकी वजह से लोगों में चिंता बढ़ रही है। पंजाब में भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखकर राज्य सरकार ने दो दिन पहले ही आदेश जारी कर सभी स्कूलों, कॉलेजों, मॉल्स के साथ-साथ सभी सार्वजनिक स्थलों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। स्कूलों में छात्रों के साथ-साथ टीचर्स और दूसरे स्टाफ के लिए भी मास्क लगाना जरूरी किया गया है। सरकारी दफ्तरों में भी फेस मास्क लगाना जरूरी किया जा चुका है।

खबरें और भी हैं...