पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मुक्तसर:हड़ताल के कारण मुक्तसर डिपाे की 129 में से केवल 13 बसेंं चलीं

मुक्तसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विभाग के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए पनबस के मुलाजिम। - Money Bhaskar
विभाग के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए पनबस के मुलाजिम।

वीरवार को पंजाब रोडवेज/पनबस/पीआरटीसी कांट्रैक्ट वर्कर यूनियन ने दोपहर 12 बजे से पंजाब रोडवेज के डिपाे बंद करके हड़ताल कर मैनेजमेंट के खिलाफ नारेबाजी की। इस हड़ताल से मुक्तसर डिपाे की 129 बसों में से केवल 13 बसेंं की चली, जिनमें फिरोजपुर, बठिंडा, पन्नीवाला व पटियाला, चंडीगढ़ के लिए 1-1 बस रवाना हुई।

संगठन के प्रांतीय संरक्षक कमल कुमार ने बताया कि रोडवेज पंजाब की ओर से ट्रांसपोर्ट विभाग के उच्चाधिकारियों ने कच्चे मुलाजिमों से साैतेला व्यवहार करने व कच्चे मुलाजिमों के लिए तानाशाही रवैया अपनाने से परेशान होकर मुक्तसर के पंजाब रोडवेज के डिपाे बंद करके मैनेजमेंट के खिलाफ रोष जताया।

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि संबंधित विभाग के अधिकारी भारत के संविधान के उल्ट कच्चे मुलाजिमों का शाेषण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी ने सत्ता में आने से पहले मुलाजिमों को पक्का करने के सपने दिखाए थे जो अब धुुंधले नजर आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि गत 15 सालों से सेवा निभा रहे मुलाजिमों को पंजाब रोडवेज में भर्ती हुए पक्के मुलाजिमों के अधीन कार्य करने के लिए मजबूर किया जा रहा है।

इस मौके पर नेताओं ने एलान किया कि अगर चंडीगढ़ के मुलाजिमों को ड्यूटी पर न लिया गया तो पनबस के साथ-साथ पीआरटीसी के डिपाे भी बंद किए जाएंगे और ट्रांसपोर्ट विभाग के मुख्य कार्यालय का घेराव किया जाएगा, जिसकी सम्पूर्ण जिम्मेवारी डायरेक्टर स्टेट ट्रांसपोर्ट की होगी। इस अवसर पर गुरप्रीत सिंह ढिल्लों, डिपाे महासचिव गुरसेवक सिंह, वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रगट सिंह, अंग्रेज सिंह, गुरपाल सिंह, जसवीर सिंह, मलकीत सिंह, निर्मल सिंह, गुरविंदर सिंह, भोला कैशियर आदि उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...