पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमृतसर से लुधियाना आकर करते थे लूटपाट:50 से अधिक वरादात की; 7 मोटरसाइकिल और 1 एक्टिवा समेत 6 मोबाइल बरामद

लुधियाना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गिरोह के बारे में जानकारी देते पुलिस कमिश्नर कौस्तुभ शर्मा। - Money Bhaskar
गिरोह के बारे में जानकारी देते पुलिस कमिश्नर कौस्तुभ शर्मा।

पंजाब के लुधियाना में लूटपाट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों को पुलिस ने धर दबोचा है। जिला पुलिस ने ऐसे गिरोह को पकड़ने में सफलता पाई है जो अमृतसर से आकर लुधियाना में वारदात कर निकल जाते थे। थाना PAU पुलिस ने मामले में 12 ऐसे अपराधियों की पहचान की जो वारदात करने दूसरे शहर से आते थे। पुलिस ने इनमें से 9 को गिरफ्तार कर लिया है, 3 की धरपकड़ के लिए दबिश दी जा रही है।

पुलिस कमिश्नर कौस्तुभ शर्मा ने बताया कि जिन लोगों को पुलिस ने पकड़ा है वह यहां वारदात कर अमृतसर भाग जाते थे। अमृतसर में ये लोग सस्ते दाम पर वाहन और मोबाइल बेचते थे। पकड़े गए आरोपियों की पहचान गौरव उर्फ रवी निवासी गांव माली राम चित रोड थाना सदर, निखिल चहल निवासी अमृतसर, रोहित उर्फ सेम निवासी अमृतसर, सुमित शर्मा निवासी छहर्टा अमृतसर, प्रिंस शर्मा निवासी अमृतसर, डेविड उर्फ शूटर निवासी अमृतसर, पारस उर्फ अनिकेत चूहड़पुर रोड लुधियाना, अनिल कुमार उर्फ अरुण नेपाली निवासी लुधियाना, धीरज गाबा उर्फ हनी निवासी बड़ी हैबोवाल के रूप में हुई है।

पुलिस हिरासत में पकड़े गए आरोपी।
पुलिस हिरासत में पकड़े गए आरोपी।

रोटेशन में करते थे वारदात

पुलिस कमिश्नर कौस्तुभ शर्मा ने बताया कि आरोपियों के 3 साथी अभी फरार हैं। ये लोग रोटेशन में आकर वारदात करते थे। कभी 2 लोग लुधियाना आ गए तो कभी वारदात करने दो लोग लुधियाना से अमृतसर चले गए। इस तरह आरोपियों ने रोटेशन में वारदातों का काम बांट रखा था। आरोपी ज्यादातर मोटरसाइकिल पर ही वारदात करते और उस पर ही अमृतसर चले जाते थे। आरोपियों से पूछताछ में पता चला कि लुधियाना में इन लोगों के संपर्क में 2 लोग थे, जिनके पास ये आरोपी आकर रुकते थे। बदमाशों ने लूट करना अपनी रुटीन में शामिल कर रखा था। आरोपियों के साथी अक्षित उर्फ चीकू, गगनप्रीत सिंह उर्फ धोनी और यूवी अभी फरार है।

जेल में हुई पहचान के बाद बनाया गिरोह

पकड़े गए आरोपियों का एक साथी किसी मामले में पहले भी जेल में रहा है। वहीं से अमृतसर और लुधियाना के युवकों की आपस में उस युवक ने दोस्ती करवाई। जेल से हुई पहचान से इस गिरोह की नींव रखी गई।पुलिस ने आरोपियों से 7 मोटरसाइकिल, 1 एक्टिवा, 6 मोबाइल और 2 दात बरामद किए हैं। आरोपियों में एक नाबालिग शामिल है। आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने जनवरी से अभी तक 50 से अधिक वारदात कर चुके हैं। आरोपी जिस व्यक्ति को वाहन और मोबाइल बेचते थे, पुलिस उसकी भी तालाश कर रही है। आरोपियों को गिरफ्तार कर मामले दर्ज कर लिया गया है। आरोपियों के बाकी साथियों की तलाश में पुलिस दबिश दे रही है।