पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

करियर टिप्स:जेईई-नीट का एग्जाम देना है तो 12वीं के साथ, 11वीं के सिलेबस की रिवीजन भी रोजाना 2 घंटे जरूर करें

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कई छात्र कशमकश में रहते हैं कि वो किस क्षेत्र में अपना करियर बनाएं। - Money Bhaskar
कई छात्र कशमकश में रहते हैं कि वो किस क्षेत्र में अपना करियर बनाएं।
  • जिला रोजगार एवं उद्यम ब्यूरो की करियर काउंसलर डॉ. निधि सिंघी ने दिए टिप्स
  • अच्छा करियर चाहिए तो प्लानिंग करनी है जरूरी, स्टूडेंट्स इन बातों का जरूर रखें ध्यान

स्कूली शिक्षा के बाद छात्रों के लिए सही करियर का रास्ता चुनना उतना आसान नहीं होता, जितना यह लगता है। कुछ स्टूडेंट्स को तो पता होता है कि वे कौन-सा क्षेत्र चुनना चाहते हैं, जबकि कई छात्र कशमकश में रहते हैं कि वो किस क्षेत्र में अपना करियर बनाएं।

कई छात्रों ने 11वीं और 12वीं में साइंस विषय लिया है और सर्वश्रेष्ठ करियर विकल्पों की तलाश कर रहे हैं, उनके लिए डिस्ट्रिक्ट ब्यूरो ऑफ एंप्लॉयमेंट एंड एंटरप्राइजेज की करियर काउंसलर डॉ. निधि सिंघी ने विशेष तौर पर टिप्स दिए। उन्होंने बताया कि साइंस स्टूडेंट्स के पास करियर के विकल्प बाकी स्टूडेंट्स से ज्यादा होते हैं। उन्होंने बताया कि जेईई-नीट का एग्जाम देना है तो 12वीं के साथ 11वीं के सिलेबस का भी रिवीजन रोज 2 घंटे करें।

अच्छा करियर चाहिए तो प्लानिंग करनी है जरूरी, स्टूडेंट्स इन बातों का जरूर रखें ध्यान

जेईई-नीट के एग्जाम की तैयारी में किस बात का ध्यान रखें?
-बच्चे 12वीं पर फोकस करते हैं। 12वीं के एक महीने जेईई और नीट का एग्जाम देने की बारी आती है तो 11वीं का सिलेबस तैयार करने के लिए समय नहीं रहता तो पेरेंट्स ज्यादातर एक साल का गैप करवा देते हैं कि तैयारी करो अकेडमी जॉइन कर लो। ऐसे में जरूरी है कि बच्चे पहले से ही 11वीं के सिलेबस की रोजाना दो घंटे रिवीजन करें। ऐसा ना करना बच्चों का सबसे लैक पॉइंट हो जाता है। इसी वजह से रैंक स्कोर कम हो जाता है।
जेईई-नीट का एग्जाम नहीं देना चाहते तो क्या करें?
-जेईई नीट का एग्जाम नहीं देने वाले स्टूडेंट्स के लिए बीएसएसी मेडिकल और नॉन मेडिकल के बाद बीएड का विकल्प होता है। टीचर बनने की चाह रखने वाले स्टूडेंट्स के लिए दो साल की बीएड के बाद पीटेट का एग्जाम देना जरूरी होता है, लेकिन कई बच्चों को पता ही नहीं होता है। इसके बिना टीचिंग लाइन में प्रवेश नहीं मिलता है।

क्या ग्रेजुएशन के बाद सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई किया जा सकता है?
-हां, ग्रेजुएशन के बाद हर तरह की सरकारी के लिए अप्लाई किया जा सकता है, क्योंकि एलिजिबिलिटी होती है। इसमें सबसे पहले अपना फीयर फैक्टर दूर करो। 10वीं के मैथ को कभी भूलो मत। इसका रिवीजन हमेशा करते रहो, क्योंकि ग्रोथ के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है।

क्या अभिभावकों का बच्चों पर दबाव बनाना उचित है?
-अभिभावकों को सलाह दी जाती है कि जब भी बच्चा किसी भी विषय से 12वीं पढ़ने की बात करें तो पहले शांति से उसकी बात को समझें। बच्चे पर किसी तरह का दबाव ना बनाएं कि मैथ्स से ही इंटरमीडिएट करना या फिर बॉयोलाजी से 12वीं करनी है। यह फैसला पूरी तरह बच्चे पर ही छोड़ दें। स्टूडेंट्स अपनी पसंद की पहचान करने के बाद पेरेंट्स को समझाएं। हर फील्ड में करियर की अपार संभावनाएं होती हैं।

खबरें और भी हैं...