पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX60821.62-0.17 %
  • NIFTY18114.9-0.35 %
  • GOLD(MCX 10 GM)476040.47 %
  • SILVER(MCX 1 KG)650340.55 %
  • Business News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Fake Cartridges Offered In The Name Of 19 License Holders In Arms Records, One Bullet Sold For 300 To 350, Three Named Including Father son Owner Of Verma Gunhouse

सुखबीर बादल की रैली में असलहा मिलने का मामला:असलहा रिकॉर्ड में 19 लाइसेंस धारकों के नाम पर चढ़ाए फर्जी कारतूस, 300 से 350 में बेची एक गोली, वर्मा गनहाउस के मालिक पिता-पुत्र समेत तीन नामजद

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सभी लाइसेंस धारकों को फोन कर बुलाया तो पता चला कि उन्होंने नहीं ली थी गोलियां - Money Bhaskar
सभी लाइसेंस धारकों को फोन कर बुलाया तो पता चला कि उन्होंने नहीं ली थी गोलियां

शहर के गन हाउस पर अवैध तरीके से गोलियां सप्लाई करने का बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है। जोकि फर्जी तरीके से रिकाॅर्ड मेनटेन कर गोलियां बेच रहे हैं। थाना साहनेवाल की पुलिस द्वारा डिप्टी सीएम सुखबीर बादल की रैली में पिस्टल लेकर घुसे आरोपी कशिश के मामले के बाद उसे गोलियां सप्लाई करने वाले वर्मा गन हाउस के मालिक गिरधारी लाल और उसके बेटे गुरचरन कुमार और शमशेर को थाना डिविजन 8 की पुलिस ने नामजद किया है। वहीं, थाना साहनेवाल की पुलिस ने इसी मामले में सिमरनजीत सिंह को गिरफ्तार कर एक पिस्तौल 32 बोर और 6 गोलियां बरामद की हैं।

पुलिस ने उक्त मामले में आरोपी कशिश को गोलियां देने वाले गुरचरन के बारे में पता किया तो पता चला कि उनका भारत नगर चौक के नजदीक वर्मा गन हाउस है। ईओ विंग और असलाह लाइसेंस विभाग की टीमों ने मामले की जांच शुरू की। जब उनका लाइसेंस चेक किया तो उसमें तीनों आरोपियों की मलकियत का पता चला।

पुलिस ने उनका असलहा और गोलियों के रिकाॅर्ड का रजिस्टर मंगवाया। उक्त रजिस्टर में 19 लोगों के नाम थे, किसी के पास 32 बोर, 30 बोर, 52 बोर, 12 बोर के असलहे और गोलियों में किसी को 20, किसी को 10 और 5 गोलियों की संख्या दिखाई गई थी। उक्त लोगों में से 70 फीसदी लोग वो थे, जोकि गांवों में रहते हैं। उक्त सभी लोगों को बारी-बारी बुलाकर उनका असलहा और गोलियों का हिसाब मांगा गया।

जिसमें से आधे से ज्यादा ने गोलियां ली ही नहीं थी। जिनके नाम फर्जी तरीके से रजिस्टर पर चढ़ा दिए और लिख दिया कि उन्होंने गोलियां ली हैं। रिकाॅर्ड के मुताबिक उक्त रजिस्टर में 300 से ज्यादा कारतूस को चढ़ाया गया है, फिलहाल ये पता किया जा रहा है कि कितनी गोलियां फर्जी तरीके से चढ़वाई गई हैं। आरोपियों ने एक गोली 300 से 350 रुपए में बेची है, फिलहाल इसकी पुष्टि की जा रही है।

कानपुर के हथियार, दोस्त की बर्थडे पार्टी पर चलाई चार गोलियां
पुलिस ने सिमरनजीत को गिरफ्तार किया तो उसने बताया कि उसे असलहा मोहाली जेल में बंद सागर ने कानपुर से लेकर दिया था। जिसके साथ उसे 10 गोलियां मिली थी, उसमें से चार गोलियां उसने दोस्त की बर्थडे पार्टी पर चला दी थी। जबकि 6 गोलियां उनके लिए रखी थी, जिनके साथ उसकी रंजिश चल रही थी। पुलिस सागर को प्रोडक्शन वाॅरंट पर लाकर पता करेगी कि कौन सा सप्लाॅयर है। जिसने असलहा दिया। उक्त असलहा आरोपी ने पार्क में दबा रखा था। इसी तरह से और असलहे भी दिए हो सकते हैं, इसकी जांच चल रही है।

शहर के एक दर्जन गन हाउस की जांच के लिए स्पेशल टीम का किया गठन
गन हाउस से गोलियां बिना रिकॉर्ड बेचने के मामले के बाद पुलिस अधिकारियों की टीम का गठन किया गया है, जोकि शहर के एक दर्जन के करीब गन हाउस की चैकिंग करेंगे। उनके रिकार्ड को अपने दफ्तरों में मंगवाया जाएगा और खुद अधिकारी फीजिकल तौर पर जाकर चैकिंग भी करेंगे। जोकि आने वाले दिनों में शुरू कर दी जाएगी। हालांकि कुछ समय पहले भी पुलिस द्वारा कुछ लोगों को हथियार समेत पकड़ा था और उन्होंने कहा था कि लुधियाना के गन हाउस वाले गोलियां बेचते हैं। तब पुलिस ने चैकिंग करवाई थी, लेकिन वो अधर में रह गई थी।

खबरें और भी हैं...