पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Market Watch
  • SENSEX61308.910.14 %
  • NIFTY18308.10.29 %
  • GOLD(MCX 10 GM)479960.3 %
  • SILVER(MCX 1 KG)61497-0.1 %

परेशानी:मैरिज सर्टिफिकेट, पासपोर्ट बनवाने को डेट ऑफ बर्थ करेक्शन कराने के लिए डेढ़ माह से भटक रहे आवेदक

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सेहत कर्मियों की हड़ताल से वैक्सीनेशन कोविड सैंपलिंग का काम 90% ठप - Money Bhaskar
सेहत कर्मियों की हड़ताल से वैक्सीनेशन कोविड सैंपलिंग का काम 90% ठप
  • सेहत कर्मियों की हड़ताल से वैक्सीनेशन कोविड सैंपलिंग का काम 90% ठप
  • मिनिस्ट्रियल स्टाफ के बाद रेवेन्यू अफसरों के साथ डीसी ऑफिस के मुलाजिम, पटवारी, कानूनगो ने ठप कर रखा है कामकाज

होशियारपुर के माहिलपुर सब रजिस्ट्रार दफ्तर में नायब तहसीलदार व रजिस्ट्री क्लर्क की गिरफ्तारी के खिलाफ पूरे राज्य के रेवेन्यू अफसर हड़ताल पर हैं। उनके समर्थन में डीसी ऑफिस के कर्मचारी, पटवारी, कानूनगो भी हड़ताल पर है। वहीं इससे पहले मिनिस्ट्रियल स्टाफ भी हड़ताल पर रहा था। जिस वजह से जहां लगातार पेंडेंसी बढ़ रही है वहीं लोग भी डेढ़ महीने से डीसी ऑफिस व सेवा केंद्रों के धक्के खाने को मजबूर हैं।

उम्मीद लेकर घर से निकले लोग सेवा केंद्रों से मायूस होकर वापस जा रहे हैं। हालांकि सेवा केंद्रों में फाॅर्म अप्लाई तो किए जा रहे हैं परंतु अधिकारी हड़ताल पर होने के कारण काम पिछले एक-डेढ़ महीने से पेंडिंग हैं। अगर काम शुरू भी हो जाता है तो पहले पेंडिंग काम निपटाया जाएगा उसके बाद इस माह में अप्लाई किए आवेदनों की बारी आएगी। इस समय पूरे जिले में 11 हजार से अधिक की पेंडेंसी है। जबकि हड़ताल को शुक्रवार तक और बढ़ा दिया गया है। शनिवार और रविवार को छुट्टी होने के कारण सोमवार को काम शुरू होने की संभावना है। परंतु इसका फैसला भी रविवार को मीटिंग में लिया जाएगा कि हड़ताल आगे बढ़ानी है या काम शुरू करना है।

सेहत कर्मियों की हड़ताल से वैक्सीनेशन कोविड सैंपलिंग का काम 90% ठप

लुधियाना। सेहत विभाग पंजाब के नेशनल हेल्थ मिशन (एनएचएम) के कर्मचारियों द्वारा पंजाब सरकार के रेगुलाइजेशन एक्ट के खिलाफ शुरू की हड़ताल मंगलवार को 22वें दिन भी जारी रही। सेहत मुलाजिमों ने कैलाश चौक पर सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सरकार का पुतला भी फंूका। इस हड़ताल के कारण वैक्सीनेशन और कोविड सैंपलिग का काम 90 फीसदी तक ठप पड़ा है। इसी के चलते बुधवार को एक भी जगह सेंटर नहीं बनाया गया। कोरोना महामारी में इन कच्चे मुलाजिमों को सैंपलिंग और वैक्सीनेशन की सबसे अहम जिम्मेदारी सौंपी गई थी। कच्चे मुलाजिमों की हड़ताल के कारण पक्के मुलाजिमों पर काम का ज्यादा बोझ पड़ रहा है। कई ब्लॉक में डिलीवरी बिल्कुल बंद हैं, जिस कारण मरीजों को प्राइवेट अस्पताल में जाना पड़ रहा है। वहीं, नशा छुड़ाओ केंद्र पर दवा लेने के लिए भी मरीजों को घंटों इंतजार करना पड़ रहा है।

3 चक्कर लगा चुका, नहीं हुआ काम

बेटे का पासपोर्ट बनवाना है इसके लिए एक महीने पहले डेट ऑफ बर्थ में करेक्शन के लिए अप्लाई किया था। अभी तक तीन चक्कर लगा चुका हूं परंतु काम नहीं हुआ।
-प्रेम प्रकाश, समराला चौक

खबरें और भी हैं...